रविवार, 11 अप्रैल 2010

जिंदगी मुझसे यूँ मिली ......
















जिंदगी बस उस दम ही लगी भली
जब मैं जिंदगी से मैं बन कर ही मिली

पसरा रहा दरमियाँ खुला आसमां
संकरी लगने लगी रिश्तों की गली

जज्बातों ने ले ली फिर अंगड़ाई
अरमानों की खिलती रही कली

पलकों की सीप में अटके से मोती
राह आने की तकती रही उसकी गली

दामन खींचती हवा चुपके से पूछ रही
आज किसकी है कमी तुझको खली

जिन्दगी पहले तो नही थी इतनी हसीं
आती जाती रही लबों पर जो इतनी हँसी

तुझसे मिलकर ही जाना जिन्दगी
तू है वही जो ख्वाब बनकर आँखों में पली

जिंदगी पहले कभी ना लगी इतनी भली
जब तलक उससे मैं मैं बनकर ना मिली

...................................................................................

21 टिप्‍पणियां:

  1. नया ब्लॉग और मैडेन गीत -सुभान अल्लाह -शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिंदगी बस उस दम ही लगी भली
    जब मैं जिंदगी से मैं बन कर ही मिली....nice

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिंदगी पहले कभी ना लगी इतनी भली
    जब तलक उससे मैं मैं बनकर ना मिली
    yahi to sach hai ... khoobsurat ehsaas

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिंदगी बस उस दम ही लगी भली
    जब मैं जिंदगी से मैं बन कर ही मिली

    बहुत खूब .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर गीत ! कभी मैंने ही लिखा था :
    'ज़िन्दगी !
    जब भी मिला तुझसे
    यकीन मुश्किल से हुआ
    कि वो तू ही है
    जिसने गिरफ्त में
    ड़ाल रखा है मुझे !...'
    यह बंद बहुत कुछ कहता लगा :
    'पसरा रहा दरमियाँ खुला आसमां
    संकरी लगने लगी रिश्तों की गली !'
    साभिवादन --आ.

    उत्तर देंहटाएं
  6. kya baat hai ji , zindagi ki khoobiyo ko darshaati hui rachna .. padhkar to mera aaj ka din ban sa gaya hai .. aapki lekhni ko salam ...

    aabhar aapka

    vijay

    pls read my new poem on my blog
    www.poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. दामन खींचती हवा चुपके से पूछ रही
    आज किसकी है कमी तुझको खली

    क्या बात कही है...बेहद ख़ूबसूरत...बड़ी प्यारी सी रचना है...

    जिंदगी पहले कभी ना लगी इतनी भली
    जब तलक उससे मैं मैं बनकर ना मिली
    बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. नए ब्लॉग की अनेकों शुभकामनाएं...यहाँ गीत ऐसे ही हँसते मुस्कुराते,गुनगुनाते रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  9. जिंदगी बस उस दम ही लगी भली
    जब मैं जिंदगी से मैं बन कर ही मिली
    वाह वाह..!!
    क्या बात है...
    और क्या गीत है वाणी गीत के ..
    कभी हमसे भी तो जरा मुस्कुरा कर मिलो
    हम भी झूम लेंगे गुनगुना कर मिलो.....

    उत्तर देंहटाएं
  10. जिंदगी बस उस दम ही लगी भली
    जब मैं जिंदगी से मैं बन कर ही मिली

    -बहुत सुन्दर भाव!! शानदार है जी.

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. जब जिंदगी से खुद की मुलाकात हो तो क्या बात है...बहुत खूबसूरत रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  13. जिंदगी बस उस दम ही लगी भली
    जब मैं जिंदगी से मैं बन कर ही मिली


    जिंदगी पहले कभी ना लगी इतनी भली
    जब तलक उससे मैं मैं बनकर ना मिली...

    इतना ही कह दिया होता हम सभी वाह-वाह करते ना थकते... अब तो थकावट हावी हो रही है लिखने की सोचते-सोचते///

    उत्तर देंहटाएं
  14. खुबसूरत पंक्तियाँ हैं ! ज़िन्दगी से खुद बनकर ही मिलना चाहिए । सबको धोखा दिया जा सकता है, खुदको कोई कैसे धोखा दे !

    उत्तर देंहटाएं
  15. BAHUT SUNDAR RACHNA


    SHEKHAR KUMAWAT

    http://kavyawani.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  16. ’मैं’ अनोखी प्रतीति का संवाहक है ! कई बार विपरीततः आचरण करता !
    ’मैं’ कई बार स्वतः की प्रतीति है, तो ठीक...पर कभी यह प्रतीति ’पर’ को विचलित करे, तो ठीक नहीं !

    "पसरा रहा दरमियाँ खुला आसमाँ
    संकरी लगने लगी रिश्तों की गली "
    मुझे तो खूब भायी ये पंक्तियाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  17. मुझे आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा ! आप बहुत ही सुन्दर लिखते है ! मेरे ब्लोग मे आपका स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं
  18. जिंदगी बस उस दम ही लगी भली
    जब मैं जिंदगी से मैं बन कर ही मिली

    बहुत खूब .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. दामन खींचती हवा चुपके से पूछ रही
    आज किसकी है कमी तुझको खली
    क्‍या बात कही है....;बेहद खूबसूरत।

    उत्तर देंहटाएं