गुरुवार, 20 अक्तूबर 2011

तुम्हारी लीला तुम ही जानो !


षड़यंत्र करती राधा ,
गोपियों की चुगलखोरी
मीरा की जुगुप्सा ....
यशोदा की ममता में मिलावट
जो ना हो साबित ...
तो हैरानी क्या!
तुमसे कैसा शिकवा ,कान्हा ...

जानती हूँ ...
तिरछे नयनों से, भंवर पड़ते गालों से
मुस्कुरा कर कह दोगे
"सुनती ही नहीं थी
तुम्हे कैसे चेताता
कलियुग है ! "

तुम पर मेरा अमिट विश्वास
तुम्हारी लीला तुम ही जानो !

65 टिप्‍पणियां:

  1. हाथ में सुदर्शन चक्र , और उसीकी तरह घूमते रिश्ते , बातें - केशव ! कुछ तो विश्राम लो

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुंदर .....प्रभावित करती बेहतरीन पंक्तियाँ ....... बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति है ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. खूबसूरत प्रस्तुति |

    त्योहारों की नई श्रृंखला |
    मस्ती हो खुब दीप जलें |
    धनतेरस-आरोग्य- द्वितीया
    दीप जलाने चले चलें ||

    बहुत बहुत बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. तेरा तुझको अर्पण, क्या लागे मेरा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. विश्‍वास की लीला, कृष्‍णं वंदे जगदगुरू.

    उत्तर देंहटाएं
  6. विश्वास ही दृढ आधार है ..बाकी तो सब लीला है :)

    अच्छी भावाभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  7. कुछ समझ में आया कुछ नहीं आया मैं क्या कहूँ सब कवयित्री की लीला...

    उत्तर देंहटाएं
  8. तुम्हारी लीला तुम ही जानो !!! सत्य के प्रति विश्वास जगाती कविता के लिए बहुत बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही खूबसूरत कविता।
    ----
    कल 22/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. उसकी लीला को कोई क्या जान सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. विश्वास के यही बोल होते हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  12. कविता भाषा शिल्‍प और भंगिमा के स्‍तर पर समय के प्रवाह में मनुष्‍य की नियति को संवेदना के समांतर, दार्शनिक धरातल पर अनुभव करती और तोलती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. सच में कलियुग है!
    बहुत हि सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच कहा.
    तुम ही जानो अपनी लीला.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सत्य के प्रति विश्वास जगाती कविता| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  16. achchhi lagi kavita ...vishvas kiye bina gujara bhi nahi aur tripti bhi nahi ....

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  18. लीला पुरुष को अर्पित अद्भुत काव्याभिव्यक्ति! मगर आज के संदर्भ में ये राधा ,ये यशोदा ,मीरा गोपियाँ कौन कौन हैं ....और रुक्मिणी सत्यभामा की चर्चा क्यों नहीं हुयी ....? :)

    उत्तर देंहटाएं
  19. लाजवाब...

    आपको धनतेरस और दीपावली की हार्दिक दिल से शुभकामनाएं
    MADHUR VAANI
    MITRA-MADHUR
    BINDAAS_BAATEN

    उत्तर देंहटाएं
  20. कलियुग है ...सब उसकी लीला है । सुंदर प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. पञ्च दिवसीय दीपोत्सव पर आप को हार्दिक शुभकामनाएं ! ईश्वर आपको और आपके कुटुंब को संपन्न व स्वस्थ रखें !
    ***************************************************

    "आइये प्रदुषण मुक्त दिवाली मनाएं, पटाखे ना चलायें"

    उत्तर देंहटाएं
  22. दीपावली के पावन पर्व पर आपको मित्रों, परिजनों सहित हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएँ!

    way4host
    RajputsParinay

    उत्तर देंहटाएं
  23. दीपावली व नववर्ष की आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  24. **************************************
    *****************************
    * आपको सपरिवार दीवाली की रामराम !*
    *~* भाईदूज की बधाई और मंगलकामनाएं !*~*

    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    *****************************
    **************************************

    उत्तर देंहटाएं
  25. *******************************************************************
    #
    मेरे दोनों ब्लॉग कल दोपहर बाद से गायब हैं
    आप में से कोई मेरी मदद कर सकें तो बहुत आभारी रहूंगा



    शस्वरं


    ओळ्यूं मरुधर देश री


    लिंक :-
    shabdswarrang.blogspot.com
    rajasthaniraj.blogspot.com


    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    *****************************************************************

    उत्तर देंहटाएं
  26. तुम पर मेरा अमिट विश्वास
    तुम्हारी लीला तुम ही जानो.

    सुन्दर वाणी मधुर गीत.
    आपकी प्रस्तुति से हो रही है प्रीत.

    बहुत बहुत आभार,वाणी गीत जी.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.
    'नाम जप' पर अपने अमूल्य विचार
    और अनुभव प्रस्तुत करके अनुग्रहित
    कीजियेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  27. आपका पोस्ट अच्छा लगा । .मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. सब उसकी नहीं कुछ आपकी भी लीला है !

    उत्तर देंहटाएं
  29. सब उस कि ही लीला है....बहुत ही लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  30. तुम्हारी लीला तुम ही जानो..वाह!

    भक्ति नहीं ये प्रेम है..कहीं विशाल प्रेम.

    उत्तर देंहटाएं
  31. खूबसूरत कविता... भाव का संयोजन सुन्दर है...

    उत्तर देंहटाएं
  32. कुछ उसकी लीला ..कुछ अपनी लीला.गजब की लीला....

    उत्तर देंहटाएं
  33. राधा,गोपियां,मीरा,यशोदा- सब कृष्ण के प्रेम में थीं। कहना मुश्किल है कि कृष्ण के केंद्र में भी ये ही थीं या नहीं!

    उत्तर देंहटाएं
  34. आज के युग-धर्म को अच्छी तरह विश्लेषित कर दिया है आपने इन पंक्तियों में .

    उत्तर देंहटाएं
  35. रेशमी शब्दों में उलाहना ने सुंदरता बढ़ा दी है.

    उत्तर देंहटाएं
  36. गहन विश्वास और हमारी दुनियां .....
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत सुन्दर भावो से भरी पोस्ट......शानदार |

    उत्तर देंहटाएं
  38. एक अच्छी और गहन रचना. की प्रस्तुति के लिए धन्यवाद । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं





  39. आदरणीया वाणी जी
    सस्नेहाभिवादन !

    तुम्हारी लीला तुम ही जानो
    अच्छा लिखती हैं आप

    … लेकिन क्या राधा मीरा यशोदा मैया और गोपियां ग़लत थीं ?!

    मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  40. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  41. तुम मेरा अमिट विश्वाश ...तुम्हारी तुम ही जानो ....बस इन्हीं पंक्तियों ने सारी बात कह डाली अब कहने सुनने को तो कुछ रहा ही नहीं :)
    बहुत सुन्दर रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  42. blog bhi sunder,kavita bhi prabhvee.accha talmel rachna aur prastuti ke beech.sadhuvaad aapko
    dr.bhoopendra
    rewa
    mp

    उत्तर देंहटाएं
  43. नया भाव है । सचमुच विश्वास बडा होता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  44. अरे! बहुत ही बढ़िया... सचमुच..

    उत्तर देंहटाएं
  45. "तुम्हारी लीला तुम ही जानो !"
    यही समर्पण तो भक्ति का मूल है!

    उत्तर देंहटाएं