शनिवार, 12 नवंबर 2011

हर घर में उस एक पत्ते को स्थिर कर दे!


कभी कभी यूँ भी होता है ...
निष्ठां, प्रेम, विश्वास
से बने आशियाने
झूलने लगते हैं
अविश्वास , शक
अपमान ,तिरस्कार के भूचालों से ...
चूलें चरमराने लगती हैं
जैसे बने हो ताश के पत्ते के घर
एक पत्ता हिला और सब बिखर गया..
आंसू भरी आँखों से
कितनी शिकायतें बह जाती है
काली अँधेरी- सी रात गले लग कर सिसकती है ...
उस अँधेरे में ही एक लकीर रौशनी की
जैसे कह उठती है ...
बस यह एक रात है अंधरे की ...
इसे गुजर जाने दो ...
सुबह सब कुछ वही धुला- धुला सा!
यही विश्वास बनाये रखता है
उस एक पत्ते को स्थिर ...
और फिर से वही मजबूत बुनियादें
हंसी - मुस्कुराहटों का साम्राज्य !
अँधेरी रातें उजली सुबह में बदल जाती हैं...
विश्वास हो बस कि ये भी गुजर जाएगा !
और वह हथेलियों को जोड़कर
उस अदृश्य से
प्रार्थना करती है ...
हर घर में उस एक पत्ते को स्थिर कर दे...
सबके जीवन के अंधेरों में उजाला भर दे !


51 टिप्‍पणियां:

  1. सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया...की आदि आप्त भावना लिए है यह कविता

    उत्तर देंहटाएं
  2. विश्वास पर दुनिया कायम है और सच भी है । जरूर सुबह होगी सबके आँगन । बहुत सुंदर भावना लिए हुए अच्छी रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. काली अँधेरी- सी रात गले लग कर सिसकती है ...
    उस अँधेरे में ही एक लकीर रौशनी की
    जैसे कह उठती है ...
    बस यह एक रात है अंधरे की ...
    इसे गुजर जाने दो ...यही तो अपने भीतर का विश्वास है , ईश्वर का साथ है - जिसकी हथेलियाँ आंसू को पोछ कहती हैं , ' फिर सुबह होने को है '

    उत्तर देंहटाएं
  4. सकारात्मक पक्ष लिए प्रभावी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  5. कविता का अर्थ हमें भी प्रेरित करता है जगत में सकारात्मक आशा का संचार करने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कल 14/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. उस अँधेरे में ही एक लकीर रौशनी की
    जैसे कह उठती है ...
    बस यह एक रात है अंधरे की ...
    इसे गुजर जाने दो ...
    सुबह सब कुछ वही धुला- धुला सा!
    यही विश्वास बनाये रखता है
    उस एक पत्ते को स्थिर ...

    और इस तरह फिर से हो जाता है सवेरा ... बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  8. सार्थक लिखा है ... ये सच है अँधेरे ही हर रात के बाद सुबह आती है बस विश्वास की लो जलाए रखनी होती है ... अनुपम रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर रचना , बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रार्थना ऐसी ही होनी चाहिए!
    शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  11. सार्थक आह्वान और सर्वमंगल की कामना करती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत अच्छे भावों को लिए सकारात्मक रचना,बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  13. हर रात की सुबह होती ही है..आपकी प्रार्थना सफल हो हमारी यही प्रार्थना है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी प्रस्तुति

    सोमवारीय चर्चा-मंच पर

    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  15. Wo geet yaad aa gaya..'Lab pe aati hai dua ban ke tamanna meri...'
    Bahut sundar rachana!

    उत्तर देंहटाएं
  16. ईश्वर से अनुग्रह याचना , सर्वहित कामना , सदाशयता के इस लोकव्यापी आग्रह की , कोई अन्यान्य पृष्ठभूमि नहीं होगी बस यही दुआ , यही उम्मीद है !

    उत्तर देंहटाएं
  17. ओ हेनरी की कहानी "आख़िरी पत्ती" की उस पत्ती की याद आ गयी जिसके टिके रहने से एक व्यक्ति का जीवन टिका रहा... आज आपने बताया कि उस पत्ती को टिकाये रखने का मंत्र क्या था.. बहुत ही सुन्दर कविता, हमेशा की तरह!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. आस्था व विश्वास से बडा कुछ नही । बहुत सुन्दर कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. is ek patte ke tike rahne ki jarurat sabhi gharon ko hai. ujas ka sawera sabhi ko chaahiye. aapki prarthna kabool ho.

    उत्तर देंहटाएं
  20. सबके जीवन में उजाला भर दे....
    वाह! वाह! सुन्दर
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  21. सब सुखी हों के भाव का निर्वहन करती एक उत्कृष्ट कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुंदर व सटीक. हर समय यदि गुजर जाने दिया जाए तो गुजर जाता है.यदि हम उसकी पूंछ पकड़ लटक जाएँ तो हम तो घिसटते ही हैं समय भी दो चार लत जमा देता है.
    घुघूतीबासूती

    उत्तर देंहटाएं
  23. निस्वार्थ रूप से लिखी गयी एक सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  24. सार्थक और सुन्दर भाव से परिपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  25. सार्थक एवं प्रभावी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  26. sb ke jivn me ujala ho aap ki kamna poorn ho aap ne mere blog pr aa kr sneh diya aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  27. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।
    बालदिवस की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  28. मंगलकामनाएँ ! आपका जीवन हलचलों से स्थिर हो जाये,डगमगाती हुई नौका संभल जाये पर आपका जीवन गतिमान रहे !

    उत्तर देंहटाएं
  29. बस अंधेरे की ये एक रात जल्द गुज़र जाए...या गुज़रने की उम्मीद तो कम से कम दिखलाती रहे। आशा देती कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत सुंदर पढ़ कर मन को अच्छा लगा...
    मेरे पोस्ट में स्वागत है ,...

    उत्तर देंहटाएं
  31. आशा और श्रद्धा का साथ रहना चाहिए , सब कामनाएं पूरी होनी है ....
    शुभकामनायें आपको !!

    उत्तर देंहटाएं
  32. कल 26/11/2011को आपकी किसी पोस्टकी हलचल नयी पुरानी हलचल पर हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  33. I recently came across your blog and have been watching movie and looking pictures along. I thought I would leave my first comment.

    From everything is canvas

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत रोचक और सुंदर प्रस्तुति.। मेरे नए पोस्ट पर (हरिवंश राय बच्चन) आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  35. अपमान ,तिरस्कार के भूचालों से ...
    चूलें चरमराने लगती हैं
    जैसे बने हो ताश के पत्ते के घर
    एक पत्ता हिला और सब बिखर गया
    आप की लेख्य बहुत ही सुन्दर है.... :)

    उत्तर देंहटाएं
  36. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति.
    गजब का लेखन है आपका.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईएगा.

    उत्तर देंहटाएं