रविवार, 8 अगस्त 2010

मैं तुमसे प्यार नही करती....!!

मेरे कुछ शेरों में शामिल है तेरा नाम भी
मेरी कुछ शामों में शामिल है तेरा ख्याल भी
मेरे कुछ आंसुओं का कारण है तेरी कमी भी
मेरी कुछ मुस्कुराहटों में शामिल है तेरी याद भी
मगर फिर भी यह सच है ....
मैं तुमसे प्यार नही करती ...!!
मैंने तुमसे कभी प्यार नही किया ...!!

देखे होंगे कुछ ख्वाब कभी
कि चांदनी रात में टहलते कभी
छत पर लेकर हाथों में हाथ
सुरमई शाम में कभी
सूरज को ढलता देखते साथ
गीतों गज़लों को सुन कर
कभी आह! कभी वाह! करते साथ
खेतों कि पगडंडियों पर कभी
खामोश चलते साथ- साथ
मगर
इन ख्वाबों के हकीकत होने का इन्तिज़ार
मैंने कभी नही किया...
यह सच है कि
मैंने तुमसे प्यार कभी नही किया ...!!

उसके दर से आने वाली
हर राह पर आंख बिछाना
हर आहट पर चौंक कर
दरवाजे तक हो आना
विरह की दाह में जलकर
बेचैन हो जाना
कभी भूखे प्यासे रहना
कभी नींदें गंवाना
दीवानावार इस तरह तेरा इन्तिज़ार
मैंने कभी नहीं किया ...
यह सच है की
मैंने तुमसे प्यार कभी नहीं किया ...!!

मैं तुमसे प्यार नही करती....!!
मैंने तुमसे प्यार कभी नहीं किया ....!!

39 टिप्‍पणियां:

  1. कोई भी नहीं करता ! वो तो बस हो जाया करता है ! कविता अच्छी है पर उससे जबरदस्त है शिकवा ! प्यार मैं करूँ ? दावा भी मैं करूँ ? तो स्वीकार की अनुभूति किसे होना चाहिए ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. .
    .
    .
    गिरिजेश राव जी के ब्लॉग पर आपने इस कविता का जिक्र कर उत्सुकता बढ़ा दी थी...अच्छी कविता... जैसी सोचा था, वैसी ही पाया ।

    तो आपने ख्वाब नहीं देखे... न ही ख्वाबों के हकीकत में बदलने का इंतजार किया... दीवानेपन से, शिद्दत से कभी प्यार नहीं किया... जानती हैं, जीवन का एक बहुत अहम अनुभव मिस कर दिया आपने !

    आभार!


    ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. जब ये लिखने की जरूरत पडे तो समझो बात इस से उल्ट है। बहुत अच्छी कविता। बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. इन सारे एहसासों ने कुछ ऐसा रंग घोला है
    प्यार न कराने के दावे का कुछ राज़ खोला है...

    सुंदरता से आपने इस रचना में हर उस एहसास को नकार दिया जो असल में महसूस किया .....सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर कविता
    याद आ गया,'गुनाहों के देवता' में सुधा का कहना, "मैं चंदर से प्यार नहीं करती...ना जाने क्या करती हूँ.."
    इस कविता में भी "उस ना जाने क्या " का अहसास बखूबी उभर आया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक गीत याद आ गया ...@ हमें तुमसे प्यार कितना ये हम नहीं जानते ,मगर जी नहीं सकते तुम्हारे बिना .
    बहुत ही सुन्दर कविता है

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह..!!
    कुछ अप्रत्याशित सी अनुभूति हुई है इस कविता को पढ़ कर....
    जो प्यार नहीं करते क्या वो जानते हैं कि वो प्यार नहीं करते....??
    सोचने वाली बात है वैसे..
    कविता बोले तो....बिंदास...

    उत्तर देंहटाएं
  8. To phir yah kya tha?Kaun kahta hai muhobbat kee zuban hotee hai,Ye wo haqeeqat hai jo nigahon se bayaan hoti hai! Jagjeet chitra kee gayee gazal anaayaas yaad aa gayi!

    उत्तर देंहटाएं
  9. अनोखे भाव लिए एक सुंदर प्रस्तुति |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  10. Vani di..

    Tere sheron main wo shamil..
    Geeton main hai uska naam..
    Aansu uski kami se aate..
    Yaad rahe wo din aur sham..

    Wo tere khwabon main rahta..
    Hai tere muskanon main..
    Tere ahsaason main wo hai..
    Bhale nahi wo sanson main..

    Deevanapan bhale nahi hai..
    Par ye pyaar hi hai dikhta..
    Maano ya na maano, wo hi..
    Dil main tere hai basta..

    Aapki kavita atyant madhur hai.. Es par maine Subah hi tippani ki thi par jaane kaise prakashit nahi dikh rahi.. Ab punah kar raha hun..

    Deepak..

    उत्तर देंहटाएं
  11. मैं तुमसे प्यार नही करती....!!
    मैंने तुमसे प्यार कभी नहीं किया ....!!

    lekin ahsaas bata raha hai wo apne priyatam ke saanso me basa hua hai.........:)

    bahut sundar abhivyakti........:)

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस बारे में त हमरे पास कहने को कुछ नहीं है..लेकिन आपका खोना पाना, हाँ नहीं का सच सब इस कहानी में है... अऊर एही सच हैः

    आओ तुम मेरे पास आओ.
    मैं तुम्हारे पास नहीं आऊँगी.
    तुम मेरे पास आओ.
    तुम्हारे पास नहीं आऊँगी.
    मेरे पास आओ.
    पास नहीं आऊँगी.
    पास आओ.
    नहीं आऊँगी.
    आओ.
    आऊँगी.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत गूढ़ भाव लिये है यह कविता। लगता है जैसे प्रेम का तथ्य स्वीकार कर लेना उन विविध झाँकियों का पटाक्षेप हो जायेगा जो इतनी रोचक हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  14. मंगलवार 10 अगस्त को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है .कृपया वहाँ आ कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ....आपकी अभिव्यक्ति ही हमारी प्रेरणा है ... आभार

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  15. झूठ बोले कौवा काटे काले कौवे से डरियो!!!!

    प्रमोद ताम्बट
    भोपाल
    www.vyangya.blog.co.in
    http://vyangyalok.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  16. उसके दर से आने वाली
    हर राह पर आंख बिछाना
    हर आहट पर चौंक कर
    दरवाजे तक हो आना

    यही है आज के जीवन का यथार्थ
    दिल में गहरे बैठ गई आपकी ये प्रस्तुती

    उत्तर देंहटाएं
  17. दी...बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  18. अब ये सफाई किसलिए ,काम की ?
    dil ko bahlaane ko gaalib khyaal achchha hai !

    उत्तर देंहटाएं
  19. क्या अंदाज़ बयाँ है बरबस साहिर याद आ गए !! बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  20. एक गीत हमें भी याद आया "तुम्हें हो ना हो मुझको तो, इतना यकीं है, मुझे प्यार तुमसे, नहीं है नहीं है" :-)

    उत्तर देंहटाएं
  21. क्या यही सच है....कभी स्वयं से सवाल करो तो....पहेले की जो चार पंक्तियाँ लिखी वो क्यों लिखी ???

    :):)

    लेकिन बहुत अच्छा लिखा ...कितना झूठा दावा है. हा.हा.हा.

    उत्तर देंहटाएं
  22. एक एक पंक्ति बार बार कह रही है कि मैं तुमसे प्यार करती हूँ - भले ही मुझे इसका अहसास न हो.

    उत्तर देंहटाएं
  23. लेकिन ऐसा कहने वाले अक्सर गलत पाए जाते हैं।
    सुंदर कविता के लिए शुभकामनाएँ।
    ………….
    सपनों का भी मतलब होता है?
    साहित्यिक चोरी का निर्लज्ज कारनामा.....

    उत्तर देंहटाएं
  24. Get your book published.. become an author..let the world know of your creativity or else get your own blog book!


    http://www.hummingwords.in/

    उत्तर देंहटाएं
  25. स्वाधीनता दिवस पर हार्दिक शुभकामानाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  26. बेहद प्रभावशाली पोस्ट !
    samay हो तो अवश्य पढ़ें:

    पंद्रह अगस्त यानी किसानों के माथे पर पुलिस का डंडा
    http://hamzabaan.blogspot.com/2010/08/blog-post_15.html

    उत्तर देंहटाएं
  27. एक एक पंक्ति बार बार कह रही है कि मैं तुमसे प्यार करती हूँ - भले ही मुझे इसका अहसास न हो.

    उत्तर देंहटाएं
  28. भावनाओं की अभिव्यक्ति में कैसा विरोधाभास है ..शायद इसी 'ना' में 'हाँ 'छुपी हुई है..एक गीत याद आता है ...रुना लैला का ---मुझे प्यार तुमसे नहीं है मगर मैं ने ये राज अब तक न जाना...क्यूँ प्यारी लगाती हैं बातें तुम्हारी...मैं क्यूँ तुमसे मिलने का ढूढूँ बहाना!

    उत्तर देंहटाएं
  29. kisi rchna ko sundar aur asundar ahne ka hq mujhe tbhi jb main use smjh paoon. imaandari se kah rhi hun .mujhe bilkul smjh nhi aai ki aap kahana kya chahti hain aur..........kewal kisi ko khush krne ke liye yaa upasthiti drz krwaane maatr ke liye main waah waah kaise kr dun.aashcharya! fir kyon tumhare 'aansuon me uski kmi hai aur muskraaht main 'uski' yaaden?
    bina pyaar ke ye sb ahsaas???
    ha ha ha
    bhgwaan ke qareeb aaii aur duur chali gai, pagli!

    उत्तर देंहटाएं