बुधवार, 5 मई 2010

प्रेम आखिर पलता कहाँ है ....




प्रेम आखिर पलता कहाँ है ...

किसी मृगनयनी के आंसुओं में ...

रक्तरंजित कलाई पर गुदे हुए आशिक के नाम में ....

हृदयपटल में अवस्थित खामोश तस्वीर में ...

संतति के लिए नैसर्गिक आत्मसमर्पण में ...

अपना लेने के आकर्षण में ...

सिर्फ अधिकार जताने में

या ...

स्वतंत्र कर तो दिया तुम्हे ...

मगर ...लौट आओगे ...
यह विश्वास जताने में ...

प्रेम आखिर पलता कहाँ है ....






चित्र गूगल से साभार ..

16 टिप्‍पणियां:

  1. "प्रेम आखिर पलता कहाँ है ...."

    Badhiyaa prastuti !

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्यार पलता है मेरे ही अन्दर
    तभी तो सोचा है तुम लौट आओगे
    विश्वास दिलाने....

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेम कुछ कस्तूरी जैसा नहीं...और 'मृग ढूंढें बन माही....'
    कौन परिभाषित कर पाया है, इसे कभी..

    उत्तर देंहटाएं
  4. Gulzaar ki rachana yaad aa rahi hai..."Hamne dekhi hai un aankhon ki mahakti khushbu..."Ek aisi bhavna jise shabd baandh nahi sakte..ek ehsaas jise sirf mahsoos kiya ja sakta hai..can be very ethereal & sublime!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर रचना ....गहरे भाव लिए हुआ .....प्रेम पलता कहाँ है ?...कहना मुश्किल है ..महसूस करना आसान ....पर हाँ प्रेम , प्रेम से ही पलता है

    उत्तर देंहटाएं
  6. ab prem bas maa ke aanchal me palta hai...aur kahin nahin....

    उत्तर देंहटाएं
  7. पता नहीं...
    बहुत दिनों से मिला नहीं है....
    पता-ठिकाना लिखवाया नहीं था उसने...
    तुम्हें पता चले तो मुझे भी बताना...

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाणी जी सच कहती है -या प्रणय सा विमुक्तये ! जो विमुक्त करता अहो वही निछल प्रेम है !

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह ! बहुत सुन्दर रचना है !
    प्रेम तो बस रिश्तों में पलता है जी
    ये रिश्ता कुछ भी हो सकता है पर ज़रूरी है की रिश्ते में प्रेम रहे !

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रेम एक पहेली सा ही तो है कौन पूरा पढ पाया है……………॥बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्रेम के मामले में अज्ञानी हूँ....:):)

    फिर भी एक सोच है शायद....

    प्रेम पलता है बिना अधिकार जताए समर्पण में...विश्वास में...

    प्रश्न और पूछने का तरीका बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  12. wooooooooooowwwwwwwwwwwwww.....ye baat lagi zabardast .. :) nishchit roop se prem aakhir ki kuch panktiyon me palna chahega...behad achhi lagi yah nazm mujhe..

    उत्तर देंहटाएं
  13. इसको तो और..और पढ़ने दीजिए !
    फिर कुछ कहता हूँ ! गज़ब है ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. आज आपकी कई रचनाएँ पढ़ी, आपकी रचनाओं में एक अलग अंदाज है, पढ़कर अच्छा लगा, काव्य मंजुषा पर आपकी बेबाक टिप्पणी से भी मैं प्रभावित हुआ हूँ, आज जब हर कोई जल्दबाजी में घटिया सी पोस्ट पर भी बहुत सुन्दर.....बेहतरीन......वाह....काबिले तारीफ़....जैसी टिप्पणी कर रहा हो, आप जैसे सच्ची टिप्पणी करने वाले बहुत कम लोग हैं, और ये एक अच्छा संकेत है!

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी रचनाओं में एक अलग अंदाज है,

    उत्तर देंहटाएं