गुरुवार, 30 जनवरी 2014

खामोशियों में है शोर इतना .... .....



चमचमाती फलैश लाईटें 
बना देती हैं चमकदार 
या चमकते ही है शोख -से चेहरे 
अमीरी, नाम , शोहरत  औ  रुतबे से !

चमक होती है डायमंड फेशियल की 
या परत दर परत चढ़े  मेकअप की 
या फिर ढक जाते है 
चेहरों की कालिमा 
मन के स्याह अँधेरे  
दनदनाते चमकते कैमरों में !!

जीवन से भरी नजर आती जिंदगानियां 
खिलखिलाती हैं बेतहाशा 
मंच  पर हाथ हिलाते 
शोर में डूबी रश्क करती 
तमाशबीन -सी नीचे खड़ी जिंदगानियां को 
उतना ही शोर  जिनके जीवन में भी !

कुछ पल के लिए 
महीने के खर्चों के शोर से निजात पाते 
इस शोर में खींचे  चले आते हैं। 
शोर मचाते ही जीते हैं , 
जीते जाते हैं 
मर जाते हैं 
खामोशियाँ इनको नसीब नहीं !!

मगर मंच पर
चमचमाते कैमरों में जगमगाती जिंदगानियां
मंच के पीछे  
ख़ामोशी में ही 
जीती हैं 
जीती जाती हैं 
मर जाती हैं 
शोर इनके नसीब में नहीं !! 



 चित्र गूगल से साभार !आपत्ति होने पर हटा दिया जायेगा !

32 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (1-2-2014) "मधुमास" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1510 पर होगी.
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है.
    सादर...!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही है, ग्लैमर की कीमत चुकानी पडती है. यहाँ हर शै की कीमत चुकानी पडती है, शोर की भी और खामोशियों की भी...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतर है ख़ामोशी
    चकाचौंध का आकर्षण
    आवाज़ ही छीन लेता है
    सन्नाटे में अपना 'मैं' ही बन जाता है पहेली
    उलझे फंदों से सवाल छीन लेते हैं नींद
    मन कराहता है
    - 'काश !, ऐसा न हुआ होता !
    ज़िन्दगी के छोटे छोटे पल कितने अपने थे
    मुस्कान कितनी स्वाभाविक थी
    चेहरे का सौंदर्य प्राकृतिक था
    कम ही थे चेहरे आस-पास
    पर जो भी थे अपने थे
    प्यार भरे ख्यालों से भरे हुए .... काश ! वही जीते'

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाणी जी, कल ही अर्चना से आपकी चर्चा की और आज आपकी इतनी सुन्दर कविता मिली पढ़ने को...
    ख्वाजा अहमद अब्बास साब ने एक बार कहा था की किसी भी एक्टर को चमचमाती रोशनी में देखो तो यह ज़रूर देखो कि उसकी मुस्कराहट के पीछे कितना दर्द है...
    कागज़ के फूल हैं। एक बेहतरीन कविता।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. विचारवानों की प्रेरक टिप्पणी उत्साहवर्धन करती है , शुक्रिया।
      अर्चना महोदया हैं कहाँ !

      हटाएं
    2. माता का दायित्व निर्वाह कर रही है और नेट भी काम नहीं कर रहा। मुझसे भी काफी दिनो बाद बात हुई।

      हटाएं
  5. बहुत गहन | आखिरी पंक्तियों में सत्य झांकता हुआ |

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच्चाई को कहती बहुत ही बेहतरीन रचना...
    http://mauryareena.blogspot.in/
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. हर चमक के पीछे कुछ अन्धेरा है...

    उत्तर देंहटाएं
  8. ओह.... सच इस चमक के पीछे भयावह अँधेरा है .....

    उत्तर देंहटाएं
  9. आल दैट ग्लिटर्स मे हैव अ पैथेटिक स्टोरी बिहाइंड

    उत्तर देंहटाएं
  10. कीमत तो हर चीज की चुकानी होती है

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  12. जो अकाल मौत मरती है ,उन्हें कोई पुछने वाला नहीं होता
    समय पर जिनकी मौत होती है ,उन्हें कोई पहचानने वाला नहीं होता
    आपकी लेखनी हमेशा एक सच्ची तस्वीर उकेरती है
    हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर रचना वाणी जी,
    अब तो मंच के पीछे उनको भी पहचानने नहीं आता होगा कि
    असली चेहरा कौनसा है !

    उत्तर देंहटाएं
  14. गहन भाव .......चकाचौंध से भारी ज़िंदगी ....विचित्र किन्तु ....सत्य ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बिल्‍कुल सच कहा है आपने ..... बेहतरीन अभिव्‍यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  16. विरोधाभास ही जीवन है . . . .

    उत्तर देंहटाएं
  17. चमक चौंधिया देती है आँखों को
    एक बार कर बंद आँख
    फिर खोल कर धीरे से
    देखो कि ज़िन्दगी का सच क्या है
    मंच का शोर खो देता है
    मन की ख़ामोशी को
    लेकिन इस शोर से परे
    शायद ख़ामोशी ही ज़िन्दगी है ।

    ज़िन्दगी की सच्चाई को बयां कराती गहन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  18. ग्लेमर की दुनिया ओर उसका सत्य ... कितिनी ही संवेदनाएं जो सामने नहीं आ पातीं ... सच को बाखूबी लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. सबके अपने हिस्से के दुःख...
    ख़ूबसूरत कविता

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपने मर्म को छुआ है । नींव की ईंट कहॉ दिखाई देती है ?

    उत्तर देंहटाएं