शनिवार, 30 नवंबर 2013

लिख दिया उसने उसका नाम जिंदगी .....

लिख दिया उसने उसका नाम " जिंदगी " 
-------------------------------------



ख़्वाबों में ही सही सुनहरे हर्फ़ से लिखे 
खूबसूरत
 अफसाने 
हकीकत
 की जमीन पर सर पटकते रहे !

समंदर की रेत पर
सीपियों से बनायेखूबसूरत चित्र 
लहरों
 की तानशाही पर भटकते रहे !

वह शरारती बच्चे की मानिंद 
भाग्य
 के इरेजर से 
कर्मों
 की हर तहरीर को झुठलाता 
उसका
 लिखा हर हर्फ़ मिटाता गया !

झुंझलाकर तोड़ दी 
उसने
 सारी कलमें 
बिखेर
 दी सब स्याही 
मिटा
 डाले सुन्दर चित्र
लो....खुद ही लिख लो ... 
जो
 लिखना है तुम्हे 
बना
 लो जो चित्र बनता है तुमसे ... 
बच्चे
 की शरारतों का जवाब क्या हो सकता था !!

रोककर सारी शैतानियाँकलम फंसा दी अँगुलियों में .... 
आँखों
 में झांककर मुस्कुराता
हाथ पकड़कर उसने 
लिख
वा दिया उससे उसका नाम जिंदगी 

वह मुस्कुरा उठी ....
बिखरे सारे रंगों को समेटा

जीवंत हो गए उसके बनाये चित्र
 रख दिया उसने उनका नाम  जिंदगी 

फिर उसने जब भी लिखा जिंदगी 
बन गया हर गीत उसका जिंदगी 





36 टिप्‍पणियां:

  1. बहु मर्मस्पर्शी और वात्सलय पू रण

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये जिंदगी के किस्से कभी खत्म नहीं होंगे..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर कोमल भाव रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह बहुत खूब ...जिंदगी जिंदाबाद :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऐसे मुस्कुराते रंग ज़िन्दगी ही कहे जा सके हैं.... बहुत सुंदर लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर उत्कृष्ट भावपूर्ण रचना ....!
    ==================
    नई पोस्ट-: चुनाव आया...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरेया-

    उत्तर देंहटाएं
  8. ज़िंदगी की व्याख्या इतनी सरल और सुरुचिपूर्ण, सहज और सार्थक भी हो सकती है यह आज जाना इस कविता से!!
    बहुत सुन्दर!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह...
    बहुत ही सुन्दर!!!

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (02-112-2013) को "कुछ तो मजबूरी होगी" (चर्चा मंचःअंक-1449)
    पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  11. रंग भरता रहता है जीवन यूँ ही रंगरेज़ की तरह. अति सुंदर कृति.

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्‍या बात है, आज तो बात ही कुछ और है। वाह।

    उत्तर देंहटाएं
  13. मेरे घर आना जिंदगी ... कुछ ऐसी ही प्यारी सी लगी यह कविता

    उत्तर देंहटाएं
  14. यूं तो जिंदगी बडा उलझाव लिये रहती है पर आपने बहुत ही सहजता से इसे अभिव्यक्त कर दिया, बहुत सशक्त भाव.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  15. दिख रहा है कि कैसे हंसती-मुस्कुराती है जिंदगी..

    उत्तर देंहटाएं
  16. नए रंगों से भरी जिंदगी और भी खुद ही लिखी हो ... तो मुस्कुरा उठती है जिंदगी ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. हर पंक्ति दिल को छूते हुई .......

    उत्तर देंहटाएं
  18. अभिव्यक्ति का यह अंदाज निराला है. आनंद आया पढ़कर.

    उत्तर देंहटाएं
  19. मन की गिरह खोलती सार्थक और भावपूर्ण रचना
    प्रेम और अपनेपन का कोमल अहसास
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  20. यह न समझो देव पूजा के सजीले उपकरण ये,
    यह न मानो अमरता से माँगने आए शरण ये,
    स्वाति को खोजा नहीं है औ' न सीपी को पुकारा,
    मेघ से माँगा न जल, इनको न भाया सिंधु खारा !
    शुभ्र मानस से छलक आए तरल ये ज्वाल मोती,
    प्राण की निधियाँ अमोलक बेचने का धन नहीं है ।
    अश्रु यह पानी नहीं है, यह व्यथा चंदन नहीं है ! ........ महादेवी वर्मा

    उपर्युक्त काव्य अंश एक यज्ञ बोल से कम नहीं इसके साथ एक विशेष उत्सवी आरम्भ
    http://www.parikalpnaa.com/2013/12/1.html

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाणी जी, बहुत अच्छा लगा आपका ब्लॉग पर आना
    इसके लिए बहुत बहुत आभार आपका !
    रही बात आपकी इस खूबसूरत रचना की क्या कहूं मन को छू कर
    सीधे दिल में उतर गई, बहुत सुन्दर रचना जो जिंदगी की खूबसूरत व्याख्या है !

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत बढ़िया प्रस्तुति...आप को मेरी ओर से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-तुमसे कोई गिला नहीं है

    उत्तर देंहटाएं