रविवार, 4 अगस्त 2013

तुम्हारी मुक्ति ही उनकी आजादी है !!




समूह में घिरी हुई तुम 
दिख जाती हो अक्सर 
बेरंग बदरंग चेहरे 
तुमसे चिपटते , बलैया लेते 
एक दूसरे की बहन बनाते 
तुम्हे बोल्ड और ईमानदारी का तमगा पकड़ाते 
जिनकी आँखों की बेईमानी 
साफ़ नजर आती है.
तुम्हे नजर नहीं आता या 
झूठे तमगों की  सुनहरी रौशनी में 
अपनी गर्दन ऊँची कर तुम 
गटक जाती हो 
अपनी सब निराशाओं को 
नाकामियों को … 

या कि 
कंटीली झाड़ियों के दुष्कर पथ पर 
अपने क़दमों के निशा रखती हो 
पीछे चले आने वाले 
नन्हे क़दमों को संबल देते  
जो तुमसा होना चाहते हैं 
तुम हो जाना चाहते हैं !!
अपनी मुक्ति का जयघोष करते 
इन्द्रधनुषी रंगों की सतरंगी आभा 
भली लगती है तुम्हारे चेहरे पर 
तुम्हारी आँखों में 
मगर 
क्या समझना है तुम्हे 
मुक्त किससे होना है तुम्हे 
मुक्ति का मार्ग बताने वाले 
मुक्ति के गूंजा देने वाले नारों के बीच 
चुप रह जाने वालों की भाषा 
तुम समझोगी  नहीं 
कुछ घुटी -घुटी चीखें 
सूनी आँखों से बताती है 
तुम्हारी मुक्ति ही उनकी आजादी है !!

48 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती,आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर और सार्थक

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम्म्म्म......
    गहन अभिव्यक्ति.....


    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. विलक्षण दृष्टि!! अनुत्तर !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. तुम्हारी मुक्ति ही उनकी आज़ादी है वाह!!! शानदार गहन भाव अभिव्यक्ति...:)

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत गहन और सार्थक प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपके ब्लॉग को ब्लॉग एग्रीगेटर "ब्लॉग - चिठ्ठा" में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुक्त किससे होना है तुम्हें....

    बहुत ही सशक्त और प्रभावी.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रभावी ... अपनी आजादी पाने को लालायित क्या किसी को सच्ची मुक्ति दे पाएंगे ... ये तो खुद से ही संभव है ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सार्थक और गहन अभिव्यक्ति!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. स्वयं से लगाए बंधनों से मुक्ति ही शायद असली मुक्ति होगी .... सुनहरे तमगों को पा निराशाओं को गटकती नहीं है बस बंधनों के बीच घुट जाती है ... ऐसी रचना जिसे जितनी बार पढ़ो एक अलग अर्थ सामने आता है ... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  13. गहन..... ऐसे प्रश्न उद्वेलित करते हैं मन को

    उत्तर देंहटाएं
  14. एक विचारणीय और सटीक पोस्ट.....

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 07/08/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in ....पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  16. कृपया एक बार यहॉ की यात्रा करें ।

    http://techeducationhub.blogspot.com/

    आपको आज की यात्रा कैसी लगी ? अगर आपको ये पोस्ट आई तो कमेंट्स करें। मेरे लिए आपका दिलचस्पी से पढना कमेंट्स से बढ़कर सम्मान है। अगर आपको तकनीकी शिक्षा हब की कोशिशें पसंद आयीं ,तो आप भी इसे आज ही ज्वाइन कर लें.और सब्स्क्रिब भी कर लें.आपको इस ब्लॉग की हर पोस्ट ईमेल द्वारा मिलती रहेगी.या आप गूगल प्लस पर ज्वाइन कर लें।

    उत्तर देंहटाएं
  17. मन में मुक्ति सतत जलती हो,
    गाँठें आग्रह में ग़लती हों।

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपकी यह रचना कल मंगलवार (06-08-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    उत्तर देंहटाएं
  19. उत्कृष्ट...बेहद सुन्दर...वाह वाणीजी

    उत्तर देंहटाएं
  20. प्रभाबशाली रचना। कभी यहाँ भी पधारें।
    सादर मदन
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुन्दर रचना की बधाई स्वीकारें !

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपकी इस प्रस्तुति को शुभारंभ : हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ प्रस्तुतियाँ ( 1 अगस्त से 5 अगस्त, 2013 तक) में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत ही सुन्दर रचना , बहुत ही गहन भाव लिए ..

    उत्तर देंहटाएं
  24. अपनी मुक्तता आप ही करनी होगी ।
    बहुत प्रभावी रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  25. तुम्हारी मुक्ति ही उनकी आजादी है !!

    गहन भाव

    उत्तर देंहटाएं


  26. क्या समझना है तुम्हे
    मुक्त किससे होना है तुम्हे
    मुक्ति का मार्ग बताने वाले
    मुक्ति के गूंजा देने वाले नारों के बीच
    चुप रह जाने वालों की भाषा
    तुम समझोगी नहीं
    कुछ घुटी -घुटी चीखें
    सूनी आंखों से बताती है
    तुम्हारी मुक्ति ही उनकी आजादी है !!

    सूनी आंखों से बोलती घुटी-घुटी चीखों को सुनने-समझने की सामर्थ्य हर किसी की कहां होती है आदरणीया वाणी जी ?
    पीड़ा को स्वर देने वाले बिरले ही होते हैं...
    रचना के अंतर में छुपे मर्म तक पहुंचने का प्रयास कर रहा हूं...
    साधुवाद !
    मंगलकामनाओं सहित...
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  27. सच मुक्त होना किससे है ये एक यक्ष प्रश्न है .......

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत सार्थक, गहन और उत्कृष्ट प्रस्तुति...अंतस को झकझोरती लाज़वाब अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  29. कुछ प्रश्न हैं ....तुम उत्तर हो
    कुछ बंधन हैं ...तुम मोक्ष हो

    उत्तर देंहटाएं
  30. लिखिये जी...भयंकर डिमांड है!! :)

    उत्तर देंहटाएं
  31. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    उत्तर देंहटाएं