सोमवार, 6 मई 2013

जो होता है वह नजर आ ही जाता है...



जो होता है वह नजर आ ही जाता है
----------------------------------------

सूरज अपने प्रकाश का विज्ञापन नहीं देता
चन्द्रमा के पास भी चांदनी का प्रमाणपत्र नहीं होता!

बादल कुछ पल, कुछ घंटे , कुछ दिन  ही
ढक सकते हैं ,रोक सकते हैं
प्रकाश को , चांदनी को ...

बादल के छंटते ही नजर आ जाते हैं
अपनी पूर्ण आभा के साथ पूर्ववत!

टिमटिमाते तारे भी कम नहीं जगमगाते
गहन अँधेरे में जुगनू की चमक भी कहाँ छिपती है!

जो होता है वह नजर आ ही जाता है देर -सवेर
बदनियती की परते  उतरते ही ! 
(या मुखौटों के खोल उतरते ही !!)

45 टिप्‍पणियां:

  1. सही कहा आपने, प्रत्यक्ष को प्रमाण की क्या आवश्यकता?

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  2. खुशबू कब और कहाँ छुपी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सटीक!! और यथार्थ!!
    देर हो सकती है पर सदाकाल अंधेर नहीं रहती!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्राकृतिक सौन्दर्य नज़र आता है,बर्बादी नज़र आती है ......... पर आदमी का मारा आदमी देखकर भी नहीं देख पाता कुछ ! प्रकृति में भी वही नज़र आता है,जो बिलकुल सामने होता है - अपरोक्ष में कई रहस्य हैं सूरज के चाँद के तारों के पेड़-पौधों के, ..........................

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह वाणीजी कितनी प्यारी बात कही है ......आवरण सच्चाई को छिपा नहीं सकते ....फिर आवरण जो भी हो....

    उत्तर देंहटाएं
  6. जो होता है ..
    वो नजर आना भी चाहिए !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. अजी ! ढिठाई भी तो कोई चीज होती है जो उतड़े मुखौटे पर भी मानने को तैयार नहीं होती...

    उत्तर देंहटाएं
  8. जो होता है नज़र आ जाता है ......एक न एक दिन सारे मुखौटे उतर ही जाते हैं ..... सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. बिल्‍कुल सच कहा आपने ... जो होता है वह नज़र आ ही जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर. आवरण कैसा भी दाल दें , समय के साथ सत्य तो बाहर आ ही आता है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सही कहा!
    आज ही हम सोच रहे थे... कि किसी के विचारों का आईना होता है चेहरा! कितना भी कोई छिपाए... चेहरा सच्चाई की झलक दिखा ही देता है...!
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. सच!!!!!

    सच कभी छुपता नहीं......
    सुन्दर सहज रचना..

    अनु

    उत्तर देंहटाएं

  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (08-04-2013) के "http://charchamanch.blogspot.in/2013/04/1224.html"> पर भी होगी! आपके अनमोल विचार दीजिये , मंच पर आपकी प्रतीक्षा है .
    सूचनार्थ...सादर!

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह ...क्या सटीक बात कही है.
    एक शेर याद आ रहा है ...पता नहीं किसका है
    सच्चाई छुप नहीं सकती बनावटी उसूलों से
    कि खुशबू आ नहीं सकती कागज़ के फूलों से .

    उत्तर देंहटाएं
  15. लाख छुपाओ छुप न सकेगा, राज़ ये इतना गहरा,
    दिल की बात बता देता है असली नकली चेहरा!
    और इस नकली चेहरे की पोल आपने बड़े सुन्दर प्रतीकों के माध्यम से खोली है!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच वो चमकदार शीशा है जो पानी की गहराई में भी चमकता ही रहता है..सुन्दर भाव..

    उत्तर देंहटाएं
  17. सच है ! कोई भी आवरण सत्य को हमेशा के लिये छिपा नहीं सकता ! बहुत सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  18. रोशनी भी हो और आँख भी, फिर तो दूध का दूध और पानी का पानी। लेकिन नीर-क्षीर विवेक भी आजकल महंगा हो गया है!

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह कितनी सहजता से गहरी बात कही है
    सुंदर रचना
    बधाई






    आग्रह है मेरे ब्लॉग का भी अनुसरण करे
    http://jyoti-khare.blogspot.in


    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खुबसूरत गीत.... सुंदर प्रस्तुति!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. वास्तविकता सामने आ कर रहती है !

    उत्तर देंहटाएं
  22. सच कहा है ... जो सच है ... सामने आ ही जाता है ... अनेक प्रयत्नों के बावजूद छिपाए नहीं छिपता ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. मुखौटों में जीने से कोई जिम्मेदारी नहीं बनती...जैसे लोग नकाब लगा के लुटते हैं...काश कि मुखौटे ही सामने आयें...और लोग अपनों के अपना होने का भरम पाले जीते चलें जायें...

    उत्तर देंहटाएं
  24. सच कहा वास्तविकता कब तक छुपती है बहुत सुन्दर सन्देश देती हुई प्रस्तुति बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत सच कहा है.. मुखोटों से सचाई कब तक छुप सकती है..बहुत सुन्दर और प्रभावी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  26. सही बात......सुन्दर कविता........

    वक़्त मिले तो हमारे ब्लॉग पर भी आयें।

    उत्तर देंहटाएं
  27. विज्ञापनों की प्रमाण पत्रों की सिर्फ मनुष्यों को छोड़कर और किसी को जरुरत नहीं पड़ती प्रकृति स्वयं प्रमाण है अपने होने का, बेहद सुन्दर लगी रचना ...आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  28. जहाँ देखें वही मुखौटे ..कहीं भी विश्वास नहीं मिलता !
    बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  29. मुखौटे इस लिए हैं कि सच हर किसी को नहीं सुहाता

    उत्तर देंहटाएं
  30. एक सवैया याद आया
    सूर्य छिपे अदरी बदरी और चन्द्र छिपे जु अमावस आये .......
    केतुह घूंघट काढ रहे पर चंचल नैन छिपे न छिपाए

    उत्तर देंहटाएं