सोमवार, 1 अक्तूबर 2012

पर अब जो आओ बापू.....



देश में जो हाहाकार मची है
मारकाट चीखपुकार मची है
टुकड़े टुकड़े हो जाए ना
आर्यावर्त कहीं खो जाए ना

जाति पांति की हाट सजी है
मजहब की दीवार चुनी है
स्वतंत्रता कहीं बिक जाए ना
देश मेरा खो जाए ना

जाति धर्म प्रान्त भाषा कुर्सी की यह जंग
देश को अनगिनत सूबों में बदल जायेगी
फिर कोई ईस्ट इंडिया कंपनी व्यापार के बहाने
हम पर हुकूमत चलाएगी
नींद से जागेंगे जब हम भारतवासी
फिर बापू तुम याद आओगे
इस देश में बापू तब ही
 तुम फिर से पूजे जाओगे

आर्त पुकार  सुनकर तुम कही घबराओगे
पुनर्जन्म पाकर जो फिर से लौट आओगे
स्वदेश की अलख फिर से जगाओगे
फिर से राष्ट्रपिता की पदवी पा जाओगे
सच कहती हूँ बापू तुम फिर से पूजे जाओगे

पर अब जो आओ बापू
मत आना इनके झांसे में
बहकाए ना फिर से तुमको 
ना शामिल होना इनके तमाशे में

सलाह मेरी पर ध्यान धरना
तीन बन्दर जरुर साथ रखना
पर पहले की तरह ये मत कहना
बुरा मत देखो बुरा मत कहो बुरा मत सहो
इस बार अपना संदेश बदलना
आँख कान मुंह हमेशा बंद ही रखना
स्वदेश मंत्र को हाशिये पर रखना
सत्ता जंतर का पूरा स्वाद चखना

भावुकता के पचडे में मत पड़ना
हाथ जोड़ कर विनम्रता से कहना
राष्ट्रपिता के पद का मुझे क्या है करना
मेरी झोली तो तुम छोटे से मंत्री पद से भरना
पाँच वर्षों में ही झोली इतनी भर जायेगी
सात न सही चार पीढियां तो तर ही जायेंगी


ज्ञानवाणी से प्रकाशित

45 टिप्‍पणियां:

  1. नैतिक अवमूल्यन के इस दौर में जब हर इन्सान अपनी खोली भरने के लिए किसी भी स्तर तक नीचे गिर सकता है, गाँधी जैसे महापुरुष पर छीटे पड़ने की प्रबल सम्भावना के माध्यम से सुँदर कटाक्ष . काजल की कोठरी में कैसो भी सयानो जाय --

    उत्तर देंहटाएं
  2. आर्त्र पुकार सुनकर तुम कही घबराओगे
    पुनर्जन्म पाकर जो फिर से लौट आओगे
    स्वदेश की अलख फिर से जगाओगे
    फिर से राष्ट्रपिता की पदवी पा जाओगे
    सच कहती हूँ बापू तुम फिर से पूजे जाओगे.....

    फिर से ? ज़रूरत नहीं,---- न वह जज्बा रहा,न देश प्रेम ! पुजवाना नहीं मुझे खुद को, ना ही चाहिए कोई संबोधन-जो समय के साथ किसी कोने में रख दिया जाए.
    हर एक में मैं हूँ,बिना घबराये जन्म लो और देश की स्थिति को मजबूत करो....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया वाणी जी....
    चुभती हुई रचना...
    बेहतरीन कटाक्ष.

    सादर
    अनु


    उत्तर देंहटाएं
  4. गांधीवाद के नाम पर नैतिकता के पतन पर एक बेहद संवेदनशील रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बापू बापू
    अब कहां कहां

    अपना चेहरा ढापूं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बापू तो समझ गए थे आज की राजनीति ॥तभी तो किनारा कर लिया था ... तीखा व्यंग्य

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेलगाम होती परिस्थितियां ..तुम्हारे भी बस में भी नहीं आएँगी बापू...
    सुन्दर रचना बेहतरीन कटाक्ष.

    उत्तर देंहटाएं
  8. ओह बहुत ही सटीक व्यंग ....
    सच मे ...दुर्दशा है ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. क्या कहें..सिर्फ नमन कह देते हैं बापू को..

    उत्तर देंहटाएं
  10. उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज के हालात देख कर बापू की आत्मा कितनी दुखी होती होगी...बापू को नमन..

    उत्तर देंहटाएं
  12. आज के हालात ऐसे ही भाव मन में जगाते हैं.
    बड़ा तीखा कटाक्ष....बढ़िया कविता

    उत्तर देंहटाएं
  13. सब तरफ़ जिस प्रकार नैतिकता का क्षरण हो रहा है उसको केन्द्र में रखकर लिखी गई यह रचना व्यवस्था पर तीखा व्यंग्य करती है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन व्यंजना तंज आज की स्थितियों पर .

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही सटीक व्यंग...सार्थक रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  16. Ek wahee Bharat ka rakhwala ho gaya....na bhooto na bhavishyati!

    उत्तर देंहटाएं
  17. ab kitni naitikta ki duhai de.....!!! bahut sach ....kash badlao aaye...

    उत्तर देंहटाएं
  18. aaj ka karara vyangy.

    n jane kyu apni rachna ki tulna me apki is utkrisht rachna se karne lagi aur paya ki meri rachna kitni kamjor hai iske aage.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रुलाना है तो झगडा कर लो जी भर के , ऐसे ताने तो मत दो :)

      हटाएं
  19. आज के हालात देखकर इस तरह के विचार उठाना स्वाभाविक है. सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह ! वाणी जी , आपने बापू को इतनी सुन्दर सीख दे डाला कि मैं भी मचल उठी . काश.. एक मौका मिल जाता तो अपनी चार पीढ़ी को तो ताड़ ही देती .बहुत ही अच्छी लगी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.
    आपकी वाणी ने अनुपम गीत गाया है.

    आभार,वाणी गीत जी.
    समय मिले तो मेरे ब्लॉग पर आईएगा.

    उत्तर देंहटाएं
  22. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  23. बापू की आवाज तो आज के शोर में दब ही जाती..मार्मिक रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  24. पाँच वर्षों में ही झोली इतनी भर जायेगी
    सात न सही चार पीढियां तो तर ही जायेंगी
    ..sahi bat bahut acch wyang aaj ke haalaat ka...

    उत्तर देंहटाएं
  25. इस समय वे आ भी गये तो पहुँचे हुए लोग कोई ढोंगी है कह कर दफ़ा कर देंगे !

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत समय से नई रचना नहीं आई..

    उत्तर देंहटाएं
  27. बेह्तरीन अभिव्यक्ति .बहुत अद्भुत अहसास.सुन्दर प्रस्तुति.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये आपको और आपके समस्त पारिवारिक जनो को !

    मंगलमय हो आपको दीपो का त्यौहार
    जीवन में आती रहे पल पल नयी बहार
    ईश्वर से हम कर रहे हर पल यही पुकार
    लक्ष्मी की कृपा रहे भरा रहे घर द्वार..

    उत्तर देंहटाएं


  28. ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    ♥~*~*~ஜ●दीपावली की रामराम!●ஜ~*~*~♥
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    सरस्वती आशीष दें , गणपति दें वरदान
    लक्ष्मी बरसाएं कृपा, मिले स्नेह सम्मान

    **♥**♥**♥**●राजेन्द्र स्वर्णकार●**♥**♥**♥**
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ

    उत्तर देंहटाएं
  29. प्रभावी व्यंग ...
    बापू न हो आएं तो अच्छा ...

    उत्तर देंहटाएं