रविवार, 29 जनवरी 2012

वसंत का स्वप्न








कोयल कुहुक मधुर कानों में
पवन छेड़े आँचल लहराए
कहीं लबों पर दहके पलाश
कही मन आलापिनी ना हो जाए !

सूरज महुए -सा महका है
धरा पीले आँचल शरमाये
नीले बादल ओस झर रही
कहीं मन हरी दूब ना हो जाए!

कहीं कुसुमित कानन नयनों में
मन कहीं तितली बन जाए !
पल्लवित वृक्ष सा मौन आमंत्रण
कहीं मन वल्लरी ना हो जाए !

कही ताल सज रही कुमुदनी
कही मन भ्रमर बन जाए
कहीं मन है सुरभित वृन्दावन
कही मन गोपी ना हो जाए!

कहीं हिलोरे लेता समन्दर
बिखरे गेसू सा काँधे पर
भेद कर विस्तृत शिलाएं
मन सरिता बन ना बह जाए!

नैन ना खोले रैन सुनहरी
धवल ओट पलके झपकाए
यह वसंत का स्वप्न कहीं है
वसंत कहीं स्वप्न ना हो जाए!



52 टिप्‍पणियां:

  1. लता मंगेशकर द्वारा गाया हुआ एक गीत याद आ गया ...

    ओ बसन्ती पवन ...रोको कोई !

    उत्तर देंहटाएं
  2. अद्भुत भाव ....अद्भुत आह्लाद देती ...बहुत उत्कृष्ट रचना ....हार्दिक बधाई स्वीकारें ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रकृति के साथ अल्हड़ सा लहराती शब्द लहरी..

    उत्तर देंहटाएं
  4. चौखट पर मधुमास की दस्तक आ गयी
    वासंती बयार ऐसे स्वप्न बनके छा गयी।

    सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. वसंत अभी-भी शीत की चादर में लिपटा है, मगर स्वप्न नहीं है.. उसके आगमन की पदचाप सुनाई दे रही है नेपथ्य में. और इस गीत के बाद तो उसका रुकना असंभव है!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. वसन्त का रंग कितनी खूबसूरती से उकेरा है कि मन वसन्तमय हो गया।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बसंत की खूबसूरत अनुभूति करता मन ..बासंती हो उठा है ..सुन्दर प्रस्तुतिकरण ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. मंगल-मँजीरा बाजे झन-झन
    ताल पर थिरके बदरा सा तन

    मधुऋतु का फैला है सम्मोहन..

    उत्तर देंहटाएं
  9. कल 31/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. ऋतू बसंत , कोयल और तुम्हारे गीत ... चहुँ ओर आनंद छायो ...
    सूरज महुए -सा महका है
    धरा पीले आँचल शरमाये
    नीले बादल ओस झर रही
    कहीं मन हरी दूब ना हो जाए!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही खूबसूरत बसंत में बासंती सी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  12. पीताम्बर ओढे हुए धरती मधुमास है
    अंबर की छांव तले छाया उल्लास है

    उत्तर देंहटाएं
  13. इतनी मीठी कविता पढ़ मन वसंत वसंत सा हो गया

    उत्तर देंहटाएं
  14. कुछ अनुभूतियाँ इतनी गहन होती है कि उनके लिए शब्द कम ही होते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह बहुत खूब ....हर शब्द वासंती रंग में डूबा हुआ

    उत्तर देंहटाएं
  16. बसंत का मनोहारी चित्रण।
    दिग्दिगंत, विचरत बसंत !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर! जैसे सुन्दर चित्र वैसा ही मनोहारी शब्द चित्र!

    उत्तर देंहटाएं
  18. वसंत के आगमन का संदेश दे रही है आपकी यह सुंदर कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहूत मिठी सी सुंदर रचना है ,,

    उत्तर देंहटाएं
  20. बेह्द खूबसूरत दिल मे उतर जाने वाली रचना……………आपको वसंत पंचमी की ढेरों शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  21. मन को बसंती रंग में भिगोता ... मधुर मॉस को अवतरित करता मनमोहक सुन्दर गीत ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल शनिवार .. 04-02 -20 12 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचलपर ..... .
    कृपया पधारें ...आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुंदर चित्रों और खूबसूरत कविता से पूरा वातावरण बसंतमयी हो गया. बढ़िया प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  24. बसंत की मादकता से बचना दुष्कर है !

    उत्तर देंहटाएं
  25. सुंदर चित्रों के साथ बेहतरीन प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  26. खेलत बसंत राजाधिराज , देखत नभ कौतुक सुर समाज

    उत्तर देंहटाएं
  27. bahut sundar aur komal rachna. shubhkaamnaayen.
    नैन ना खोले रैन सुनहरी
    धवल ओट पलके झपकाए
    यह वसंत का स्वप्न कहीं है
    वसंत कहीं स्वप्न ना हो जाए!
    antim pankti mein thodi tees.

    उत्तर देंहटाएं
  28. बेहतरीन प्रस्तुति है । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत सुन्दर रचना....
    प्रथम पद में प्रयुक्त शब्द (आलापिनी) पकड़ में नहीं आ रहा...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  30. सुन्दर वासंती रचना...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  31. मन आलपीनी न हो जाए ...
    यह प्रयोग नया और अच्छा लगा। आप काव्य भी अच्छा रचती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  32. यह वसंत का स्वप्न कहीं है
    वसंत कहीं स्वप्न ना हो जाए!..
    mohak vasanti rachna...:)

    उत्तर देंहटाएं
  33. सुन्दर,मन गोपी ही क्यूं राधा क्यों न हो जाए!
    अब बसंत में इतना भी फूंक फूंक कर चलने की जरुरत है तो फिर बसंत आया ही कहाँ ? :)

    उत्तर देंहटाएं
  34. मन वृन्दावन हो जाए .....बेहतरीन भाव अनुभाव बिखेरती रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  35. वाह! अनुपम अनूठा गीत है आपका,वाणी गीत जी.
    मृदुल मृदुल शब्दों और भावों का अदभुत संयोजन.

    शानदार प्रस्तुति के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  36. आपकी कविता बहुत ही अच्छी लगी । भावों का समावेश भी रूचिकर लगा । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  37. Kayi dino baad upasthit hua hun... samayaabhaav hai is liye blog darshan aaj kal kar nahi paa raha.... mail par hi RSS feed manga kar padh liya karta hun... rachna humesha kee tarah khubsurat... aur sabse achhi antim kee chaar panktiyaan... ek baat aur achhi lagi rachna se mail khate hue chitron ka prayog....

    उत्तर देंहटाएं