सोमवार, 9 मई 2011

जिंदगी है या चाय का प्याला ...







मुझे
चाय बहुत भाती है ...
हर रंग में हर रूप में
कभी यूँ ही काली कडवी से
कभी उस काली चाय में नीम्बू,
कभी बर्फ ,
कभी दूध डाली चाय
तो कभी उसमे ढेर सारे मसाले
चाय हर रंग में रूप में मुझे बहुत भाती है
कितनी उबाली जाए
कितनी चीनी
कितने मसाले
कितना दूध
किस प्याले में परोसी जायेगी
बनाने वाला ही तय करता है ....
मगर
जिसे पीना हो
चीनी दूध की मात्रा घटा बढ़ा सकता है
और बन जाती है उसके स्वाद की चाय !

जिंदगी भी मुझे चाय सी ही लगती है ...
जिस रंग में हो
जिस रूप में हो बहुत भाती है ...

कितना खौलेगी
कैसा रंग होगा
कैसा स्वाद ...
बाह्य आवरण कैसा होगा
बनाने वाला ही तय करता है ....
मगर
जिसका जीवन है
घटा- बढ़ा सकता है ख़ुशी या आंसूं
और बन जाता है उसके स्वाद का जीवन ....

जिंदगी मुझे चाय -सी ही लगती है
इसलिए हर रंग में मुझे बहुत भाती है ...




71 टिप्‍पणियां:

  1. sunder prastuti .
    aap kaisee chay peete hai aur kaisee jindgee jeete hai sabhee kuch to swayam aapkee pasand par nirbhar hai........
    Aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुबह की चाय के संग इसे पढ़ा और ज़िन्दगी का स्वाद आने लगा , कभी कडवी कभी मीठी, कभी स्पेशल , कभी खट्टी , कभी फीकी ... इस रचना की खूबी उस चिंतन की ऊँचाइयों तक ले जाती है जिसने जीवन को करीब से हर कदम पर जाना है

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह ! नई ज्ञानवाणी. सुंदर :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिसका जीवन है
    घटा- बढ़ा सकता है ख़ुशी या आंसूं
    और बन जाता है उसके स्वाद का जीवन ....

    चाय का बिम्ब और जीवन ... काश सब कुछ घटाना बढ़ाना अपने हाथ में होता ... जो स्वाद चाहते नहीं वैसी भी बन जाती है कभी कभी चाय और उस समय एक ऑप्शन होता है कि चाय को न पिया जाए ..या फिर मुँह बनाते हुए पी ली जाए ... पर ज़िंदगी के साथ यह ऑप्शन नहीं होता ... जीनी ही पड़ती है चाहे जैसी भी बनी हो ज़िंदगी की चाय ...सोचने पर विवश करती ..चिंतन मंथन से निकली खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. जिंदगी की चाय के प्याले से तुलना बहुत अच्छी लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मै तो चाय की रेसिपेस गद्य में पढ़ी थी आप ने तो ...उसको नया ही रंग दे दिया ......आपकी चाय बहुत भा गयी है

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह ……चाय सी ज़िन्दगी………बहुत सुन्दर ख्याल्।

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह ! जी,
    चाय सी ज़िन्दगी…
    इस कविता का तो जवाब नहीं !

    उत्तर देंहटाएं
  9. चाय के एक प्याले ने जीवन की सच्चाई से रूबरू करा दिया, बहुत सुंदर बिम्ब का चित्रण !

    उत्तर देंहटाएं
  10. वैसे मुझे तो सिर्फ कुल्लड वाली चाय ही भाती है :) पर आपकी यह चाय बहुत भायी

    उत्तर देंहटाएं
  11. वैसे तो काली चाय ही पसंद है लेकिन आपकी रचना पढ़ कर हर रंग की चाय पीने का मन करने लगा..ज़िन्दगी और चाय की बहुत सुन्दर तुलना और उतनी ही प्रभावमयी अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  12. चाय के प्याले और जिंदगी के मेले की वाजिब तुलना में नया रंग उकेरा है .

    उत्तर देंहटाएं
  13. मुझे अदरख की चाय की याद दिला दी । दिल में कुछ-कुछ होने लगा चाय का नाम सुनकर। आशिकी हिलोरें लेने लगी , तो चाय बनाकर ले आई । फिर चुस्कियों के संग टिप्पणियां पढ़ीं। शिखा जी ने कुल्हड़ की याद दिला दी । सोंधी खुशबू आ गयी। लेकिन कुल्हड़ कहाँ से लाऊं ?

    उत्तर देंहटाएं
  14. चाय का प्याला .....और...जिंदगी
    अच्छी तुलना...गहन भाव .....सुन्दर बिम्ब

    उत्तर देंहटाएं
  15. चाय....मुझे भी बहुत भाती है...

    सुन्दर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह! वाह! क्या बात है...जिंदगी एक चाय की प्याली सी...बहुत ही बढ़िया तुलना रही.

    उत्तर देंहटाएं
  17. मेरी पसन्द की चाय और जिन्दगी से तुलना । सुन्दर साम्य...

    उत्तर देंहटाएं
  18. chhay k bahane aapne ek tarah se zindagi ko hi abhivyakt kar diyaa. achchhi rachana k liye badhai...

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत खूब!! गुरुदेव गुलज़ार साहब ने कहा था ये जीना है अंगूर का दाना/जितना पाया मीठा था,जो हाथ न आया खट्टा है!! आपने इसे चाय की प्याली में समेत दिया.. लेकिन मशहूर कहावत भी है एक..चाय की प्याली में तूफ़ान...

    उत्तर देंहटाएं
  20. चाय कि प्याली और जिंदगी. अच्छा साम्य स्थापित किया है. बहुत सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  21. ज़िन्दगी चाय का प्याला? और मैने आजकल चाय पीनी छोड दी है। सुन्दर भावमय रचना। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  22. ये जीवन भी चाय के प्याले के इर्द गिर्द घूमया रहता है ... सुबह उठने के बाद से सोने तक ....

    उत्तर देंहटाएं
  23. uff ...di chai peete peete ye rachna kar daali kya aapne!!
    bahut khubsurat!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. चाय की चुस्की की तरह
    घूँट घूँट पी रहे हैं...
    ज़िन्दगी का मज़ा कुछ इस तरह
    हम ले रहे हैं...
    बड़ी ज़बरदस्त है जी... चाय, ज़िन्दगी की...!

    उत्तर देंहटाएं
  25. हर रंग की चाय जैसा जीवन..... जैसे मेरे ही मन की बात कह दी हो....... जीवन जैसा भी हो उसे भरपूर जी लिया जाए....
    यही तो खूबसूरती है जीने की.....

    टिप्पणी के लिए ब्लॉग़ खुल नहीं रहा इसलिए मेल करना पड़ा..... मेल करने की बेसब्री इसलिए कि आपकी रचना ने तो मन मोह लिया....

    मीनाक्षी

    उत्तर देंहटाएं
  26. बस अब तो यही कामना है कि लोगों का प्यार "टी बैग" बन मिलता रहे और हम उसे अपनी चाय रूपी ज़िन्दगी में डुबो डुबो उसका अर्क लेते रहें ।

    बहुत सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. चाय की जीवन से तुलना अच्छा प्रयोग ,बधाई ..

    उत्तर देंहटाएं
  28. चाय का बिम्ब और जीवन ..बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  29. जिंदगी सच में चाय की तरह कितने ही रंग और स्वाद की है ...सबकी अपनी पसंद और अपना जीने का अंदाज...

    उत्तर देंहटाएं
  30. Chay to muze bhee behad pasand hai aur jindagee bhee uske sare rangon ke sath chahe we khushee ke hon ya udasee ke.

    उत्तर देंहटाएं
  31. वाणी जी सुंदर पोस्ट बधाई चाय मुझे भी पसंद है |

    उत्तर देंहटाएं
  32. जिंदगी तो हर रंग हर रूप में हमें एक सन्देश देती है दोस्त बस जरूरत है नज़रिए की , कि हम उससे कितना सिख सकते हैं वर्ना जिंदगी को समझना इतना मुश्किल भी नहीं |
    बहुत खुबसूरत रचना चाय के मीठे घूंट कि तरह | :)

    उत्तर देंहटाएं
  33. चाय किसे नहीं भाती है

    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  34. वाह आपकी इस मसाले चाय की चुस्कियां लेते लेते मैं तो खो गया ... क्या बात है ! बहुत सुन्दर रचना और सोच !

    उत्तर देंहटाएं
  35. चाय जिन्दगी है... बिल्कुल सही . सुन्दर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  36. जिन्दगी को देखने और समझने का अपना अपना नजरिया.. इस चाय के माध्यम से जिन्दगी का नया रूप देखा आज हमने
    बहुत बहुत बहुत .... अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  37. चाय और जीवन, कवि की कल्‍पना को नमन.

    उत्तर देंहटाएं
  38. आपका अंदाजे बयां वाकई निराला है।
    चाय और प्याले में जिंदगी को ढ़ाला है॥

    उत्तर देंहटाएं
  39. chaay ko zindgi jaisaa jaan kar
    bahut sukoon haasil huaa ..
    rachnaa kee shaili
    apni baat khud hi samajhaa paa rahi hai !

    उत्तर देंहटाएं
  40. जिन्दगी और चाय,वाह! क्या बात है?

    उत्तर देंहटाएं
  41. zindagi mujhe chay si lagti hai
    kya sunder tulna hai har rang har rup me sunder lagti hai
    sahi kaha
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  42. यह अंदाज़ बढ़िया रहा चाय के साथ ....
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  43. very beautiful and unusual comparison of tea and life.
    I loved it.

    उत्तर देंहटाएं
  44. चाय, चुस्की और चौबारा, जीवन, मुस्की औ' देह सारा

    चाय जीवन है तो चुस्की-मुस्कान यह शरीर, चौबारा

    मधुरता-प्यार, कसैलापन-तकरार, उष्णता-उमंग,

    दुग्ध-श्रृंगार, नींबू-बहार, तरलता--नियति के रंग

    कुछ ऐसा भी है जो कभी-कभी बहुत खले

    जब खौलती हुई चाय से आत्माराम जले

    उत्तर देंहटाएं
  45. जिंदगी की चाय के प्याले से तुलना बहुत अच्छी लगी|धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  46. aapne bilkul sahi kaha hai
    jindagi ko dekhne ka ye bhi ek najariya hai vastutah ham apne roj ke jeevan me jo bhi kaam karte hai wo hame jeevan ke prati ek nayi soch deta hai naya aayam deta hai.....
    chai ko aapne udahran ki tarah prastut kiya hai bahut khoobsoorti ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  47. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच चौराहे पर खड़ा हमारा समाज ( चर्चा - 1225 ) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  48. वाह सुबह सुबह चाय का मज़ा आ गया|

    उत्तर देंहटाएं
  49. क्षमा करें... इससे पूर्व की टिप्पणी में दिन गलत हो गया था..!
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार के चर्चा मंच चौराहे पर खड़ा हमारा समाज ( चर्चा - 1225 ) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  50. चाय पी जाए, जिंदगी जी जाए

    उत्तर देंहटाएं
  51. ज़िन्दगी की चाय कभी उबलती हुई
    कभी मुस्कान बनाती
    कभी बेकार .................. पर जो हो तुम्हारी यह चाय मुझे बहुत अच्छी लगी

    उत्तर देंहटाएं
  52. पियो चाय और एंजाय -एक चाय की तलब मुझे फिर चाय वाली तक ले आयी है :-)
    कुछ और एनालाजीज बताने का मन है मगर जाने दीजिये :-)

    उत्तर देंहटाएं
  53. चाय तो कभी पी नहीं
    अच्छी ही नहीं लगी
    लेकिन चाय तो वर्षों से
    अलग-अलग लोगों के
    पसंद का बनाती आ रही हूँ
    शायद इस लिए जिन्दगी भी जी रही हूँ
    अलग-अलग लोगों के पसंद का ........

    उत्तर देंहटाएं
  54. वाह ! चाय और ज़िंदगी दोनों की ही कितनी स्वादिष्ट रेसीपी दे दी आपने ! सच अपने हिसाब से खुशी या गम घटा बढ़ा कर हम ज़िंदगी का ज़ायका भी अपने मन माफिक बदल सकते हैं बस थोड़ा सा नज़रिया बदलने की ज़रूरत है ! बहुत प्यारी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  55. आज भी इस कविता को पढ़ कर बिलकुल वही खयाल आए जो मैंने पहले टिप्पणी में लिखे थे ..... कविता पढ़ते हुये नहीं देखा था कि यह पहले की पोस्ट है ..... और सच कहूँ तो याद भी नहीं थी आपकी यह रचना .... जब टिप्पणी के लिए कर्सर आगे बढ़ाया तो देखा कि ज़िंदगी की चाय का मज़ा तो पहले भी लिया जा चुका है :):)
    बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  56. बहुत सटीक तुलना की है...

    उत्तर देंहटाएं
  57. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 18 जुलाई 2016 को लिंक की जाएगी .... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं