बुधवार, 2 मार्च 2011

अहम् ....हम ...

अहम

मना ले तो करीब आऊँ
गले लग जाए तो मना लूं...
कट जाती है
एक पूरी उम्र
पटरियों -सा साथ चलते
इसी कशमकश में
कई बार
यूँ ही
तन्हा ...


मैं -हम

जिद कहाँ थी कि मै तू ही रहे
मैं मैं ही रहूँ
तू भी तू ही रहे
मगर कभी -कभी
हम भी तो रहें .....


वृक्ष

बसंत में जब
गिर रही हो घनी शाखें
टपाटप
पतझड़ में
झरते पीले पातों का
सोग भी मनाता होगा ??


भय

एक खिड़की
एक भय
कई खिड़कियाँ
कई मुखौटे
बड़ा डराता था...
एक दिन
बंद कर दी
सभी खिड़कियाँ
जड़ दिए ताले
और चाबियाँ फेंक दी समंदर में
कर लेना अब समन्दर से दो हाथ!
भय बड़ा कसमसाता होगा ना ...




...............................................

40 टिप्‍पणियां:

  1. मगर कभी-कभी तो हम रहें...
    बहुत ख़ूब...
    सारी की सारी लाजवाब हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बसंत का सोग गीत, निर्भय और आत्‍मीय.

    उत्तर देंहटाएं
  3. यही उलझन जीवनपर्यन्त बनी रहती है। बहुत सुन्दर कवितायें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भय बड़ा कसमसाता होगा ना ... ' डर से मुक्ति पाने के लिए लगाया ताला , अब हर वक़्त ये ख्याल , भय बड़ा कसमसाता होगा न ! मन की वह स्थिति जहाँ वह मुक्त नहीं हो पाता , सारे दरवाज़े, खिड़कियाँ बन्द करके भी सोचता जाता है .... बहुत ही बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक एक क्षणिका कुछ अलग ही एहसास लिए हुए है.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. भय बड़ा कसमसाता होगा ना ...Beautiful expression . At times we need to be courageous . It depends on a person's strong will power !

    उत्तर देंहटाएं
  7. चंद लाइनों में कही कई गहरी बात सब अच्छी लगी |

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह्……आज तो गागर मे सागर भर दिया………सभी शानदार्।

    उत्तर देंहटाएं
  9. चारों रचनाएँ बहुत सुन्दर हैं, बहुत ही सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  10. चारों क्षणिकाएं बहुत ही सुन्दर हैं ..पहली वाली खास अच्छी लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सारी की सारी क्षणिकाएं काबिल-ए-तारीफ़ हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  12. 'kat jaati hai
    ek poori umr
    patariyon sa sath chalte'
    wah!konal bhavon ki sundar abhivyakti.
    sabhi kshankayen asardar..

    उत्तर देंहटाएं
  13. कट जाती है एक पूरी उम्र....
    शानदार क्षणिकाएं हैं वाणी जी.

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी क्षणिकाएं आपकी बेहतरीन सोच को प्रतिबिंबित करती हैं.अन्य ब्लोगों पर आपके परिपक्व कमेंट्स अक्सर पढता हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  15. Ekse badhke ek kshanika!Kaash! Itna sundar kabhi mai bhee likh paun!

    उत्तर देंहटाएं
  16. और फ़ेक दी चाबी समन्दर में ,
    भय बहुत कसमसाता होगा ना।

    बेहद सुएन्दर पंक्ति, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  17. कभी हम भी तो रहें .. क्या बात है बहुत खुबसूरत , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  18. सभी एक एक बढ़ कर एक ...बहुत पसंद आई मगर कभी कभी हम भी तो रहे .....बहुत बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  19. मैं मैं ही रहूँ
    तू भी तू ही रहे
    मगर कभी -कभी
    हम भी तो रहें .....


    सभी रचनाएँ बहुत अच्छी लगी...... 'मैं -हम' और 'वृक्ष' बहुत ही पसंद आई

    उत्तर देंहटाएं
  20. (१) बात वही पर अंदाज नया ,प्रस्तुति नई ! ये कहना मुश्किल है कि अहम वास्तव में श्रेष्ठता का बोध है या फिर हीन भावना ? लेकिन यह निश्चित है कि सम्बन्धों में असहजता का कारण है !

    (२) कभी उसके तू या मेरे मैं में एकाकार हो जाने से बेहतर क्या हो सकता है :)

    (३) या फिर आज के हालत में उसकी संवेदनायें भी मनुष्यों की तरह भोथरी हो गई हों ?

    (४) क्या यह किसी के 'स्व' / अंतर्मन के एक्सपोज्ड हो जाने को लेकर है या फिर किसी के 'स्व' पर बाह्य हस्तक्षेप के विरुद्ध प्रतिरोध जैसा ?

    बहरहाल चारों रचनाओं से एक बात निसंदेह स्थापित होती है कि रचनाकार कवि भले ही माना जाये पर उससे पहले वो एक दार्शनिक है ! आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  21. भय बड़ा कसमसाता होगा न ...बहुत खूब ...

    बेहतरीन प्रस्‍तु‍ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. अल्टीमेट.. मज़ा आ गया पढ़कर, क्षणिकाए हमेशा से मुझे पसंद आती है..

    उत्तर देंहटाएं
  23. ye aham sach me dampatya jeevan ko tod deta hai...!!

    bahut khub! par sasbe pahlee post ne dil ko chhua..!

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर क्षणिकाएँ, आभार|

    उत्तर देंहटाएं
  25. जीवन के हर रंग का एहसास कराती पंक्तियां । बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत लाजवाब ... हर क्षणिका ... गहरी दुनियादारी समेटे हुवे .... सच है पूर्णतः हर बात ...

    उत्तर देंहटाएं
  27. पटरी सा साथ चलते ...पंक्ति ने वर्षों पहले के पल और ऐसे ही वाक्य को ला खड़ा कर दिया और आपकी छणिका अहम जीवंत हो उठी. अनजाने में ही कोई कभी-कभी बहुत कुछ दे जाता है. धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  28. sabse zyada pasand mujhe "bhaiy" aayi

    jab apke andar dar hota hai us samay bhi dar ko jeetne ka ehsaas kamaal hai.

    उत्तर देंहटाएं
  29. सारी क्षणिकायें चिंतन योग्य हैं ! मन की हलचल को बहुत ही सुघरता से निरूपित किया है आपने ! 'मैं' और 'तू' के समन्वय और सामंजस्य के साथ 'हम' बन की प्रत्याशा में कभी-कभी सारा जीवन ही व्यतीत हो जाता है ! इतनी सार्थक प्रस्तुति के लिये बधाई एवं शुभकामनायें |

    उत्तर देंहटाएं
  30. सभी क्षणिकायें बहुत अच्छी लगी। पहली वाली तो दिल को छू गयी। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  31. कभी कभी कविता आत्म विवेचन ,आत्मालोचन और आत्म प्रवंचना का मार्ग अपनाती हैं तब वे और भी यथार्थपरक बन जाती हैं -इन्ही शेड्स को लिए हैं ये उद्भावनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं