बुधवार, 9 जुलाई 2014

प्रेम होने में जो है ....


प्रेम होने में जो है , 
शब्दों में कहीं अधिक है !
शब्दों से कहीं अधिक है !!
जरुरी है प्रेम का होना , 
शब्दों के सिवा ही !
शब्दों के सिवा भी !
(एक दिन कविता की यह शाख सूख जायेगी )
प्रेम शब्दों से फिसलकर 
रिश्तों में साकार होगा 
या कि 
पतझड़ के सूखे पातों-सा 
बिखर जाएगा .
होगा यह या वह 
इन शब्दों के परे 
इन शब्दों के इर्द गिर्द ही मगर !!


13 टिप्‍पणियां:

  1. प्रेम...जो बहता रहेगा सांसों में , धड़कन में हमेशा . सुन्दर शब्द दिया है..

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ...प्रेम को इस दृष्टिकोण से भी देखा जाये ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. शब्दों के सिवा भी शब्दों के सिवा ही....सुंदर परिभाषा प्रेम की..

    उत्तर देंहटाएं
  4. जरूरी है प्रेम का होना .......
    .......... अस्तित्‍व तो इसी बात पर टिका है

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया प्रस्तुति-
    आभार आपका-

    उत्तर देंहटाएं
  6. यही तो प्रेम है... शब्दों के सिवा भी - शब्दों के सिवा ही... लाख झड़ जाएँ पतझड़ के पात की तरह, लेकिन सूखे फूलों की ख़ुशबू उस एहसास को ज़िन्दा रखती है!!
    एक बहुत ख़ूबसूरत रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  7. शब्दों के सिवा भी …… बहुत कुछ है !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. शब्दों में और शब्दों से परे भी ....बहुत सुंदर ,गहन उद्गार वाणी जी ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रेम है होगा ... रहेगा शाश्वत ...
    इसे शब्द मिलें न मिलें जमीन मिले न मिले ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. मन में जमा बीज है जो समाप्त नहीं होता कभी,दिखाई दे या न दे- मौसम की बात है

    उत्तर देंहटाएं
  11. " प्रेम न खेती ऊपजै प्रेम न हाट बिकाय ।
    राजा परजा जेहि रुचय सीस देइ लै जाय ।"
    कबीर

    उत्तर देंहटाएं
  12. जरूरी है प्रेम का होना, शब्दों के सिवा ही, शब्दों के सिवा भी...एक सच जो बखूबी उकेरा है शब्दों में...

    उत्तर देंहटाएं