शुक्रवार, 11 जनवरी 2013

शब्द हो गए हैं इन दिनों सर चढ़े




शब्द हो गए हैं इन दिनों सर चढ़े 
करके मेरी पुकार अनसुनी 
बैठ जाते है अलाव तापने 
कभी दुबके रजाई में 
मोज़े मफलर शॉल लपेटे 
खदबदाती राबड़ी में जा छिपते हैं 
करते आँख मिचौली 
ऐसे नहीं सुनने वाले है ये ढीठ शब्द 
कभी  बैठते हैं छत से जा चिपके 
यहाँ- वहां से इकठ्ठा करूँ 
बैठा दूं करीने से 
पुचकारू   प्यार से 
हौले से थपकी दे संभालूं 
या कान उमेठ समझा दूं 
सर्दी के छोटे दिनों में 
टुकड़े -टुकड़े दिन सँभालते 
एक पूरा दिन इतना तो मिले !! 



45 टिप्‍पणियां:

  1. शब्द बच्चे बन ही गए हैं तो नहला धुलाकर स्वेटर पहनकर सामने बैठाओ - कहो,हिलना मत

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब इतनी ठण्ड है , बच्चो को नहलाने की बात करेंगी तो दूर भागेंगे वो गिल्ली डंडा खेलने . वैसे जाने वाली है सर्दी , कब तब दूर रहेंगे शब्द , आ तो गए.

    उत्तर देंहटाएं
  3. होता है ऐसा कभी कभी जिन्हें ज्यादा चाहो वो ही तो सिर चढ जाते हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. :):) फिर भी पकड़ कर ले ही आयीं हैं शब्दों को .... मेरी तो पहुँच से दूर हो गए हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. टुकड़े टुकड़े दिन सँभालते
    एक पूरा दिन इतना तो मिले !!
    लो जी कर लो बात ..... सर चढ़े इतने दुलारे होते हैं ....... :))

    उत्तर देंहटाएं
  6. हाँ शब्दों को भी undivided attention चाहिये। ऐसे कैसे चले आयें..:)
    अब देखो इतने प्यार से बुलाया तो आये न इस गीत की शक्ल में

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप तो ले ही आयीं उन्हें रजाई के बाहर ......बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (13-12-2013) को (मोटे अनाज हमेशा अच्छे) चर्चा मंच-1123 पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  9. "शीत ऋतु" को शब्द सुन्दर तरीके से शब्द की दुलाई

    ओढ़ाई गयी है ......बहुत ही सुन्दर रचना ...

    मगर यहाँ तो वर्तमान घटनाओं के लिए मुखरित होते

    शब्द भी सरचढ़े नहीं लगते ....दूसरी और सामने वाला

    हमें ही अपराधी मान बैठा है ...चोरी और सीना जोरी ...

    (वर्तमान में सरहद में बलि चढ़े दो शहीदों के सम्बन्ध में)

    उत्तर देंहटाएं
  10. इतनी सर्दी में भी शब्दों को आखिर पकड ही लिया? बहुत सुंदर रचना.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपने इस ठंड में भी खदबदाती राबडी की अच्छी याद दिला दी. पर अब कहां वो मांटी की हांडी और कहां वो लकडी का चाटू? राबडी, हांडी और चाटू सब यादों में ही रह गये हैं. ्बस पुरानी यादें ताजा हो आई.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  12. शब्द मासूम भी होते हैं.. और मन-मौजी भी ! कभी बिन बुलाए ज़हन में आ जाते हैं... कभी ढूँढे से भी मिलते नहीं...
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं


  13. ✿♥❀♥❁•*¨✿❀❁•*¨✫♥
    ♥सादर वंदे मातरम् !♥
    ♥✫¨*•❁❀✿¨*•❁♥❀♥✿


    शब्द हो गए हैं इन दिनों सर चढ़े
    करके मेरी पुकार अनसुनी
    ...
    ...
    यहाँ- वहां से इकठ्ठा करूँ
    बैठा दूं करीने से
    पुचकारूँ प्यार से
    हौले से थपकी दे संभालूं
    या कान उमेठ समझा दूं
    सर्दी के छोटे दिनों में
    टुकड़े टुकड़े दिन सँभालते

    एक पूरा दिन इतना तो मिले !!
    हां , क्या मुश्किल है फिर आपके लिए
    एक पूरा दिन इतना तो मिले...
    :)

    आदरणीया वाणी जी
    बहुत सुंदर कविता लिखी है , बधाई !
    ऐसे ही सुंदर , सार्थक , श्रेष्ठ सृजन होता रहे आपकी कलम से …


    हार्दिक मंगलकामनाएं …
    लोहड़ी एवं मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर !

    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿

    उत्तर देंहटाएं


  14. ✿♥❀♥❁•*¨✿❀❁•*¨✫♥
    ♥सादर वंदे मातरम् !♥
    ♥✫¨*•❁❀✿¨*•❁♥❀♥✿


    शब्द हो गए हैं इन दिनों सर चढ़े
    करके मेरी पुकार अनसुनी
    ...
    ...
    यहाँ- वहां से इकठ्ठा करूँ
    बैठा दूं करीने से
    पुचकारूँ प्यार से
    हौले से थपकी दे संभालूं
    या कान उमेठ समझा दूं
    सर्दी के छोटे दिनों में
    टुकड़े टुकड़े दिन सँभालते

    एक पूरा दिन इतना तो मिले !!
    हां , क्या मुश्किल है फिर आपके लिए
    एक पूरा दिन इतना तो मिले...
    :)

    आदरणीया वाणी जी
    बहुत सुंदर कविता लिखी है , बधाई !
    ऐसे ही सुंदर , सार्थक , श्रेष्ठ सृजन होता रहे आपकी कलम से …


    हार्दिक मंगलकामनाएं …
    लोहड़ी एवं मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर !

    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿

    उत्तर देंहटाएं
  15. जब सब कुछ जम रहा हो तो बेचारे शब्दों का क्या कसूर ...
    ख्यालों का अलाव जलाइए ... खुद ब खुद झोली में गिर पड़ेंगे ...
    मकर संक्रांति की शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. मुझे तो लगा था की आपके शब्द सफ़र पर निकल गए :-)

    उत्तर देंहटाएं
  17. शरारती शब्दों की सुन्दर शरारत ..

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह ! आपकी तो शब्दों से बहुत बनती है..बहुत प्यारी सी कविता!

    उत्तर देंहटाएं
  19. लो कल्लो बात!!
    इतनी खूबसूरती से पकडकर आपने शब्दों को एक लाइन में बिठा दिया कि वे भी खुश हो रहे हैं!! और हम तो खुश हैं ही!! :)

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत बढ़िया
    अभी ठण्ड बाकी हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  21. अरे वाह ...
    वाकई शब्दों को ठंडक लग गयी है ...
    याद ही नहीं आते !

    उत्तर देंहटाएं
  22. सुन्दर चित्रण...उम्दा प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत ही सुन्दर कविता |ब्लॉग पर आने के लिए आपका विशेष आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत प्यारी कविता.....वाकई शब्द बहुत मनचले होते हैं...सदा अपने मनकी करते हैं.....:)

    उत्तर देंहटाएं
  25. बेहद प्रभाव साली रचना और आपकी रचना देख कर मन आनंदित हो उठा बहुत खूब

    आप मेरे भी ब्लॉग का अनुसरण करे

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में

    तुम मुझ पर ऐतबार करो ।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  26. शब्द वाकई नकचढे हो जाते हैं कभी कभी । एक अलग सी प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. शब्द भी शरारती होते हैं :-)
    सुन्दर रचना
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  28. सच में शब्दों पर कहाँ बस चलता है...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  29. बड़े नटखट हो गए शब्द हैं आजकल-एकदम छूट भागते हैं ,पर आपने कुशलता से समेट लिया !

    उत्तर देंहटाएं
  30. शब्दों का खेल, शब्दों के साथ..बड़ी सुन्दर कल्पना है.

    उत्तर देंहटाएं
  31. शब्दों शब्दों में ही शब्दों पर बेहतरीन रचना ..एक नयापन सा लगा इस कविता में ..सादर बधाई के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  32. गहन अनुभूति
    सुंदर रचना


    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों

    उत्तर देंहटाएं