शनिवार, 22 जनवरी 2011

खिल गया फिर से वही गुलाब ....





मौसम आते है , जाते हैं ...
पतझड़ के बाद वसंत का आना तय है
फिर यह नाउम्मीदी क्यों ....
जाते वसंत में मुरझा गए थे कुछ पौधे ..
देखा उनकी सूखी डालों को काटकर ,
कुछ हरी -भरी शाखाएं अभी बाकी थी ...
उनकी फुनगी पर कुछ नन्हे पात
कुछ नव कलिकाएँ भी ....
हाँ , जरुरत थी उसे कुछ खाद , मिट्टी और दवाओं की ....
आज सुबह देखा ....
खिल गया फिर से वही गुलाब ...!


50 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही अच्छी लघु कविता है.
    आशा कभी टूटनी नहीं चाहिए.
    बसंत की याद दिलाने के लिए शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  2. सचमुच, पतझड़ तो आते ही रहते हैं,मगर बसंत कभी भी दूर नहीं होता ..
    कविता भी नए गुलाब सी है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. ’रिश्ते’ भी चाहते हैं, कभी कभी कुछ खाद,मिट्टी और दवाएं और फ़िर महक उठते हैं एक नए गुलाब की तरह । अच्छी कविता,बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आने वाला कल सुखद होगा।
    एक आशा की किरण लेकर नवरवि का उदय होगा।

    सुंदर कविता के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. जाते वसंत में मुरझा गए थे कुछ पौधे ..
    देखा उनकी सूखी डालों को काटकर ,
    कुछ हरी -भरी शाखाएं अभी बाकी थी ...
    ....
    फिर मायूसी कैसी ?
    ज़िन्दगी के कई आयाम बाकी हैं
    जो सिर्फ तुम्हारे लिए हैं
    बसंत की लकीरें जाती नहीं हैं ...
    ...
    उपर्युक्त पंक्तियाँ यही हौसला देती हैं , कम शब्दों में सार्थक सन्देश !...

    उत्तर देंहटाएं
  6. मौसम के भनी जीवन दर्शन ! कविता बढ़िया है..

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रभात का गुलाब रोज खिलता है जीवन में।

    उत्तर देंहटाएं
  8. यही ज़िंदगी है ..बस थोड़ी सी देखभाल की ज़रूरत है .. किंचित से स्नेह से गुलाब खिल जाते हैं ...सुन्दर रचना ..महकती सी

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर और आशावादी रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  10. खिलने के हौसले को ( दवा /मिटटी /खाद/पानी का ) सपोर्ट अपेक्षित होता है ! प्रतीकात्मक रूप से बेहतर बात कहती हुई कविता !

    किशोर कुमार का गाया हुआ एक फ़िल्मी गीत याद आ गया "खिलते हैं गुल यहां ..."

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (24/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं
  12. आशावादी दृष्टीकोण अच्छा लगता है

    उत्तर देंहटाएं
  13. आह हा ..फूल खिले हैं गुलशन गुलशन ..ताजगी देती रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  14. स्‍नेह से आकारित आशाओं का गुलाब.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही अच्छी कविता है...

    उत्तर देंहटाएं
  16. काश! यह बात सब समझ पाते! कभी प्यार का स्पर्श और मुस्कान की खाद देकर देखें.. पौधे तो क्या इंसान भी खिल जाते हैं!!बहुत ही सुंदर कविता! बहुत ही उत्कृष्ट संदेश!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. aasha ke phool har soch me khilte rahe ,bahut sundar kavita hai .badhai ho .

    उत्तर देंहटाएं
  18. ठीक ये ही शब्द थे अंग्रेजी के महान कवि P B Shelly " If winter comes can spring be far behind !"

    उत्तर देंहटाएं
  19. समय की साथ सब कुछ हो जाता है ... आशा, विशवास और परवरिश की जरूरत होती है ... गुलाब के माध्यम से सार्थक सन्देश देती रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  20. जीवन के प्रति नव विश्वास जगाती कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों का संगम है इस रचना में ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. जीवन में आशा से बढ़कर कुछ भी नहीं !
    आशाओं के उस पार गुलाब ही गुलाब है ,बस थोड़ी प्रतीक्षा और सब्र की जरुरत है !
    बहुत सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  23. aate sunder shabad hai aapke .... nice blog

    Pleace visit My Blog Dear Friends...
    Lyrics Mantra
    Music BOl

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत अच्छा लिखती हैं आप .... ....आपको बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  25. गुलाब-सी सुगंधित रचना । साधुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  26. आशा और विश्वास से परिपूर्ण सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  27. very poitive thoughts. your poem is like a light in the dark .aaj hindi mai likhane mai kuch problem hai , isliy english mi hi pad le

    उत्तर देंहटाएं
  28. आशा का दीप जलाती शानदार कविता।

    -------
    क्‍या आपको मालूम है कि हिन्‍दी के सर्वाधिक चर्चित ब्‍लॉग कौन से हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत ही सुंदर कविता. आपकी कविता पढ़ कर लगता है की उम्मीद जल्द नहीं टूटनी चाहिए.........
    बुलंद हौसले का दूसरा नाम : आभा खेत्रपाल

    उत्तर देंहटाएं
  30. आप सब को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं.
    सादर
    ------
    गणतंत्र को नमन करें

    उत्तर देंहटाएं
  31. गणतंत्र दिवस की आपको भी हार्दिक शुभकामनायें.
    lovely poem.

    उत्तर देंहटाएं
  32. जीवन में आशा से बढ़कर कुछ भी नहीं !
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाइयाँ !!

    Happy Republic Day.........Jai HIND

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत सुन्दर.. आशावादी है आपकी रचना .. सिखाती है हर कठिनाई और बुरे वक़्त के बाद भी अच्छा वक़्त फिर जी उठता है उस कली और गुलाब की तरह |
    .आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी आज के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    आज (28/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं
  34. उम्मीद का दामन कभी न छूटे. गुलाबी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  35. गुलाब सी ही महक है कविता में |
    सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  36. सुंदरता के साथ जीवन श्रृंगार का प्रतीक भी है गुलाब ....

    उत्तर देंहटाएं
  37. दुख सुख जीवन के दो पहलू हैं दोनो के बिना जीवन अधूरा। दिन के बाद रात और रात के बाद दिन आता ही है। फूलों के माध्यम से सुन्दर सन्देश। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  38. आदरणीया वाणी जी
    नमस्कार !
    सुप्रभात !!

    खिल गया फिर से वही गुलाब … बहुत सुंदर भाव और आशावादी स्वरों की अनुगूंज लिये हुए एक श्रेष्ठ कविता है ।

    आज सुबह देखा …
    खिल गया फिर से वही गुलाब … !

    क्य बात है ! वाऽऽह !
    सुबह सुबह आपकी इतनी सुंदर रचना पढ़ने के बाद अवश्य ही मेरा आज का दिन बहुत ख़ुशगवार रहेगा … आभार !

    हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  39. बहुत सुन्दर
    कभी समय मिले तो हमारे ब्लॉग//shiva12877.blogspot.com पर भी अपनी एक नज़र डालें

    उत्तर देंहटाएं
  40. प्रेरक आशावादी क्षणिका ... बहुत अच्छा लगा ...

    उत्तर देंहटाएं