रविवार, 4 जुलाई 2010

एक स्त्री के प्रति



स्वीकार कर लिया
काँटों के पथ को
पहचाना फ़िर भी
जकड़ लिया बहुरूपी झूठे सच को
कुछ बतलाओ, न रखो अधर में
हे स्नेह बिन्दु !
करते हो समझौता ?
जब पूछ रहा होता हूँ, कह देते हो
'जो हुआ सही ही हुआ' और
'जो बीत गयी सो बात गयी' ,
कहो यह मौन कहाँ से सीखा ?
जो समाज ने दिया
अंक में भर लेते हो
अपने सुख को, मधुर स्वप्न को
विस्मृत कर देते हो
यह महानता, त्याग तुम्हीं में पोषित
कह दो ना, ऐसा मंत्र कहाँ से पाया ?मन के भीतर
सात रंग के सपने
फ़िर उजली चादर क्यों ओढी है तुमने
हे प्रेम-स्नेह-करुणा-से रंगों की धारित्री तुम
स्वयं, स्वयं से प्रीति न जाने
क्यों छोड़ी है तुमने ?मैं अभिभूत खडा हूँ हाथ पसारे
कर दो ना कुछ विस्तृत
हृदय कपाट तुम्हारे
कि तेरे उर-गह्वर की मैं गहराई नापूँ
देखूं कितना ज्योतिर्पुंज
वहाँ निखरा-बिखरा है ।
कविताकोश पर भटकते एक समकालीन कवि की कविता बहुत मन भाई ...स्त्री के गरिमामय व्यक्तित्व को समर्पित !

कवि का परिचय बाद में ...अभी तो कविता को पढ़े और रचनाकार की स्त्रियों के प्रति अगाध श्रद्धा और सम्मान की भावना को नमन करे !

चित्र गूगल से साभार...

34 टिप्‍पणियां:

  1. एक स्त्री का तेजस्वी स्वरुप.........इसके बाद भी एक स्त्री अनकही शक्ति है , 'महाग्रंथ' की हकदार है. जिसने भी लिखा हो , उसकी सोच को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  2. सचमुच कविता ने अंतर्मन में ज्योतिर्पुंज प्रज्वलित कर दिया ..
    बहुत सुन्दर कविता है...
    कवि को नमन..

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्त्री के प्रति कवि के भाव बहुत गहरे हैं...अच्छी रचना पढवाने का शुक्रिया...

    उत्तर देंहटाएं
  4. sahi kavitaa vahi hai jo dilko chhoo le.kavi koi bhi ho. yah kavitaa saatvik bhav-bodh se bhari hui hai. kai baar kevalkavitaa yaad rah jatee hai, kavi gumnaam rahataa hai.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सत्य को चित्रित करती हुई सी प्रतीत हो रही रचना पढवाने के लिए धन्यवाद!
    नारी के विभिन्न भावपूर्ण विशेषताओं को बखूबी उकेरा है, रचनाकार ने...उन्हें भी साधुवाद!


    आपको शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  6. Bahut bahut shukriya ise pesh karne ke liye! Waqayi stree ke bheetar adbhut kshamata hoti hai..

    उत्तर देंहटाएं
  7. स्त्री के मन की गहराईयो को कोई इतने खूबसूरत अंदाज में पहचान सका है उन्हें साधुवाद |इस खूबसूरत रचना को पढवाने के लिए आपका आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर अभिव्यक्ति ! उस कवि से परिचय भी आप करवाने वाली हैं इसलिए पहले से ही दोगुना आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  9. adbhut ...jis tarah ke bhav piroye hain kavi ne ...nissandeh adbhut hain ... inka pairchay bhi zaroor dijiyega..

    उत्तर देंहटाएं
  10. अनेक संज्ञाराशियों के उदगार में एक मेरा भी स्वर ..लाजवाब !

    उत्तर देंहटाएं
  11. Wakai, adbhut se kam nahi kahunga is vishleshan ko.
    apka bahut aabhar is kavita ko yahan baantne ke liye...rachayita ko ashesh dhanyawaad.

    Wakai jyotirpunj nikhar hi sa gaya.


    aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  12. Itni bhavpurna rachna ke liye, Kavi avam prastutkarta dono ka aabhaar.

    उत्तर देंहटाएं
  13. Hi..

    Kavita ke bhavon ne humko..
    Bandh liya hai kuchh aisa,
    sahaj, sulakshan, sundar, sumadhur..
    Sheetal geet likha jaisa..

    Sundar bhav..

    Deepak..

    उत्तर देंहटाएं
  14. दी... बहुत भावपूर्ण कविता है.... कभी कभी सोचता हूँ की काश मेरी हिंदी भी अच्छी होती....

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाणी जी अभिभूत हूँ ये कविता पढ कर। कहो ये मौन कहाँ से सीखा। ----मुझे लगता है कि ये रचना दोनो मे से किसी के के लिये ही हो सकती है ये कविता पात्र औरत हो या पुरुष । धन्यवाद। अद्भुत रचना है। लेखक का नाम जरूर बतायें।

    उत्तर देंहटाएं
  16. जब पूछ रहा होता हूँ, कह देते हो
    'जो हुआ सही ही हुआ' और
    'जो बीत गयी सो बात गयी' ,
    कहो यह मौन कहाँ से सीखा ?

    अच्छा चयन.....कवि से परिचय की प्रतीक्षा है.

    उत्तर देंहटाएं
  17. You have a very good blog that the main thing a lot of interesting and beautiful! hope u go for this website to increase visitor.

    उत्तर देंहटाएं
  18. स्त्री की संवेदनाएं इस रचना मे मुखरित हैं ।
    प्रशंसनीय ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. स्वीकार कर लिया काँटों के पथ को ...
    जकड लिया बहुरूपी झूठे सच को .....

    मेरी भी झोली भरी है सवालों से
    और सवाल हैं की खत्म ही नहीं होते ......

    उत्तर देंहटाएं
  20. nari tum keval shradha ho...se ab tak. kavi ka bhi parichay mil jata or achha lagata

    उत्तर देंहटाएं
  21. @ स्वयं स्वयं से प्रीति ना जाने क्यों छोड़ी है तुमने
    वास्तव में स्त्री सारे परिवार से प्रीत करते करते खुद को ही भुला देती है..........अच्छी रचना पढवाने का शुक्रिया...

    उत्तर देंहटाएं
  22. बेहतरीन कविता पढवाने के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  23. istri ke vibhinn roopon ko chitrit karti bhavpurn rachna.....shubhkamna....

    उत्तर देंहटाएं
  24. एक बेहतरीन कविता पढ़वाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  25. Bahut hi sunder rachna......padhkar bahut h i achha lagaa. Iske liye Aapka Dhanyabaad

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  28. वाणी जी सचमुच संवेदनशील और भावपूर्ण कविता...बहुत पसंद आई...आप नाम नही बता रहीं है फिर भी मेरा उस कवि के लिए नमन है....सुंदर शब्द संयोजन...बढ़िया रचना ....प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं